Arthgyani
होम > न्यूज > वित्त समाचार > हॉकिन्स एक नए ऑफर को लेकर आई है

अब कुकर बनाने वाली कंपनी ने शुरु की फिक्स डिपोजिट

प्रेशर कुकर बनाने वाली मशहूर कंपनी हॉकिन्स एक नए ऑफर को लेकर आई है

प्रेशर कुकर बनाने वाली मशहूर कंपनी हॉकिन्स एक नए ऑफर को लेकर आई है। ऐसे में अगर आप बैंक की एफडी से भी ज्यादा ब्याज पाना चाहते हैं तो हॉकिन्स की ये ऑफर आपके लिए बेहतरीन साबित हो सकती है। हॉकिंस कुकर 3 साल की एफडी पर 10.50 फीसदी सालाना  ब्याज दे रही है। आज से कम्पनी ने इस आफर को जाहिर कर दिया है। ज्यादातर बैंक 1 साल से 3 साल तक की एफडी पर 7.50 फीसदी या इससे कम ब्याज देते हैं, ऐसे में कंपनी की यह स्कीम मंदी के दौर में ज्यादा मुनाफा पाने के लिए बेहतर विकल्प हो सकती है।

हॉकिंस की तरफ से दी गई जानकारी के मुताबिक, इस एफडी को दो तरह से कराया जा सकता है। एक एफडी मेच्योर होने पर लिया जा सकता है। वहीं दूसरा तरीका य​ह है कि ब्याज के बीच में लिया जा सकता है और मूलराशि मेच्योरिटी के समय मिलेगी. इसमें कम से कम 25 हजार रुपये निवेश करना होगा। इसके बाद 1000 रुपये से ज्यादा भी निवेश कर सकेंगे। निवेश की अवधि 3 साल तक की रहेगी।

कंपनी की एफडी स्कीम को रेटिंग एजेंसी इकरा (ICRA) से स्टेबल रेटिंग मिली है। यह रेटिंग ‘हाई क्वालिटी और लो क्रेडिट रिस्क’ दोनो को दर्शाती है। कंपनी ने वित्त वर्ष 2018-19 में 54.20 करोड़ रुपये का प्रॉफिट दर्ज किया है।

इस एफडी में 25000 रुपये से निवेश किया जाएगा जो कि 1 साल बाद ब्याज के साथ 27618 रुपये वापस मिलेगे। वहीं अगर 2 साल के लिए एफडी कराई जाती है, तो 10.25 फीसदी ब्याज मिलेगा। इस एफडी में पैसा लगाने पर 25000 रुपया 2 साल में बढ़कर 30661 रुपये हो जाएगा। इसके अलावा 3 साल की एफडी पर 10.50 प्रतिशत दिया जा रहा है। अगर 3 साल के लिए 25000 रुपये की एफडी कराई जाती है तो मैच्योरिटी पर 34210 रुपये मिलेगा।

वहीं, बीच में ब्याज चाहिए तो हर 6 महीने पर मिलेगा। इसे निवेश अवधि के दौरान 30 सितंबर और 31 मार्च को ले सकते हैं। कंपनी की एफडी स्कीम के जरिए 23.66 करोड़ रुपये जुटाने की योजना है। इसमें मेंबर्स से 6.76 करोड़ और पब्लिक से 16.90 करोड़ रुपये जुटाया जा सकता है। पिछले 4 वित्त वर्षों के आंकड़ों के मुताबिक, हॉकिन्स कंपनी का मुनाफा साल दर साल बढ़ा  है। मार्च 2016 में कंपनी का मुनाफा टैक्स घटाने के बाद 40.90 करोड़, मार्च 2017 में 47.42 करोड़ लाख, मार्च 2018 में 48.68 करोड़ और मार्च 2019 में 54.22 करोड़ रुपये दर्ज किया गया।