Arthgyani
होम > बाजार > अवंती फ़ीड्स

भारतीय झींगों की बढ़ी मांग, अवंती फ़ीड्स के लिए अच्छी ख़बर

झींगे की क़ीमतों में इजाफ़ा जारी, बीते छह महीनों में कीमतों में 20 फीसदी तक की तेजी

भारत की सबसे बड़ी एक्वाकल्चर कंपनी अवंती फ़ीड्स के लिए बेहद अच्छी ख़बर है कि झींगे की क़ीमतों में इजाफ़ा जारी है। बीते छह महीनों में अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में झींगे की कीमतों में 20 फीसदी तक की तेजी आई है।
इस ख़बर के बाद कंपनी के शेयरों में तेजी की उम्मीद बढ़ी है। इससे भारत में झींगे के उत्पादन को बल मिलेगा और झींगा भोज की मांग में इजाफ़ा होगा। इससे सबसे ज़्यादा फ़ायदा अवंती फ़ीड्स को ही मिलेगा क्योंकि बाज़ार में इसके पास 50 फीसदी की हिस्सेदारी है।
सितंबर तिमाही के दौरान साल-दर-साल की तुलना में कंपनी का रेवेन्यू 41.1 फीसदी बढ़ा। जबकि नेट प्रॉफिट ने 154 फीसदी तक की छलांग लगाई। अवंती फ़ीड्स का 80 फीसदी रेवेन्यू झींगा भोज से आता है और इसी में 51 फीसदी की वृद्धि हुई है। प्रोसेस्ड झींगा निर्यात कारोबार 15 फीसदी बढ़ा है।

कंपनी के लिए यह भी एक शुभ समाचार है। लगातार तीन तिमाही तक घटने के बाद झींगा भोज की कीमतों में 3 फीसदी तक की तेजी आई है। कंपनी ने तीन साल पहले ही प्रोसेस्ड झींगा कारोबार में कदम रखा है, जिसकी ग्रोथ 19 फीसदी रही। इसकी ग्रोथ लगातार 10 तिमाही से दोहरे अंकों में रही है।

अवंती फ़ीड्स का बिजनेस मॉडल ठोस है तथा आकार बड़ा है। इसकी बाज़ार में पकड़ भी मजबूत है। अवंती फ़ीड्स का रिटर्न ऑन इक्विटी 30 फीसदी का है. कंपनी नियमित रूप से डिविडेंड देती आई है। कंपनी का एबिड्टा मार्जिन 12.1 फीसदी का रहा, जो बीते साल की तुलना में 250 बेसिस अंक अधिक है। यदि हम मानें की झींगे की कीमत की तेजी से एबिड्टा मार्जिन में वृद्धि जारी रहेगी, तो विश्लेषकों का अनुमान है कि अगले तीन साल में कंपनी की कमाई 20 फीसदी से 24 फीसदी और बिक्री 12.5 फीसदी से 14 फीसदी की वार्षिक दर से बढ़ सकती है।

मंगलवार को यह शेयर 462 रुपये के भाव पर बंद हुआ था, जो इसके वित्त वर्ष 2019-20 की अनुमानित कमाई का 16 गुना है। आज बुधवार को यह 463.75 रूपये पर खुला और दोपहर 12.40 बजे तक यह 498 रूपए पर पहुंच चुकी थी। अवंती फ़ीड्स के लिए बेहतरीन संकेत हैं।