Arthgyani
होम > न्यूज > आईपी सूचकांक

आईपी सूचकांक में भारत की स्थिति में 4 अंको की गिरावट दर्ज़

पिछले साल के मुकाबले भारत फिसलकर 40वे स्थान पर पहुंचा ।

यूँ तो भारत को बौद्धिक संपदाओं का देश कहा जाता है लेकिन यह खेदपूर्ण है कि अंतरराष्ट्रीय बौद्धिक संपदा (IP-Intellectual Property) सूचकांक में भारत ने 4 अंको की गिरावट दर्ज़ की है। पिछले साल के मुकाबले भारत फिसलकर  40वे स्थान पर पहुंच गया है। पिछले साल भारत 50 देशों की इस सूची में 36 वें स्थान पर था। अमेरिकी चैंबर आफ कॉमर्स के ग्लोबल इनोवेशन पॉलिसी सेंटर ने यह रिपोर्ट पेश की है।

मुख्य अंश 

  1. आईपी सूचकांक में भारत 4 अंक फिसला।
  2.  सूची में 36वें से अब 40वें स्थान पर भारत ।
  3. आईपी सूचकांक में कुल 50 देश शामिल।
  4. सूचकांक में शामिल देशो को पेटेंट, कॉपीराइट, ट्रेडमार्क और सुरक्षा आदि 30 ज़रूरी मानकों पर परखा जाता है।

ज्ञात हो कि इस सूचकांक में दुनिया की 53 अर्थव्यवस्थाओं में बौद्धिक संपदा परिवेश का आकलन किया जाता है। बौद्धिक संपदा के मामले में शीर्ष पांच देश अमेरिका, ब्रिटेन, स्वीडन, फ्रांस और जर्मनी पिछले साल से अबतक अपना स्थान यथावत बनाये हुए हैं। गौरतलब है कि इस सूचकांक में शामिल देशो में आधा से ज़्यादा देशो ने अपनी स्थिति में सुधार दर्ज़ की है।

वैश्विक नवोन्मेष नीति केन्द्र के वरिष्ठ उपाध्यक्ष पैट्रिक किलब्राइड ने कहा कि 2016 में राष्ट्रीय आईपीआर नीति जारी करने के बाद से भारत सरकार ने नवोन्मेषण और रचनात्मकता में निवेश बढ़ाने का केंद्रित प्रयास किया है। साथ ही मजबूत आईपी संरक्षण और प्रवर्तन को भी लागू किया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत ने मजबूत आईपी संरक्षण की दिशा में अच्छी प्रगति की है लेकिन अभी काम पूरा नहीं हुआ है।

ज्ञात हो कि अंतरराष्ट्रीय बौद्धिक संपदा (आईपी) सूचकांक में शामिल देशो को पेटेंट, कॉपीराइट, ट्रेडमार्क और सुरक्षा जैसे नवाचार के लिए ज़रूरी 30 मानकों पर परखा जाता है।