Arthgyani
होम > म्यूच्यूअल फंड > म्युचुअल फंड

आपको करोड़पति बना सकते हैं ये 5 म्युचुअल फंड

जानते हैं रिटर्न के आधार पर 5 बेहतरीन फंड

म्युचुअल फंड के बारे तो आप सभी ने सुना होगा|सामूहिक निवेश के माध्यम से उच्चतम रिटर्न देना म्युचुअल फंड की सबसे बड़ी विशेषता है|सामूहिक निवेश के कारण निवेश का जोखिम भी कम हो जाता है|सीधे इक्विटी में निवेश की अपेक्षा इक्विटी आधारित म्युचुअल फंड में निवेश अधिक आसान एवं सुरक्षित माना जाता है|सही फंड का चुनाव आपको करोड़पति बना सकता है|आज हम जानकारी  देंगे ऐसे पांच म्यूचुअल इक्विटी फंडों के बारे में  जिन्होंने पिछले 20 या उससे भी ज़्यादा सालों में लगातार 20 फीसदी से ज़्यादा सीएजीआर (कम्पाउंड एनुअल ग्रोथ रेट या चक्रवृद्धि वार्षिक वृद्धि दर) रिटर्न दिया है|म्युचुअल फंड की सबसे बड़ी विशेषता है चक्रवृद्धि वार्षिक वृद्धि दर|आइये जानते हैं दीर्घकालीन निवेश और  रिटर्न के आधार पर 5 बेहतरीन फंड|

फ्रैंकलिन इंडिया प्राइमा फंड‘: ये फंड दिसंबर, 1993 में शुरू होने के बाद से दो दशक तक  21.02 फीसदी सीएजीआर देता रहा है| अप्रैल 1998 से अप्रेल २०१८  तक इसका रिटर्न 25.11 फीसदी रहा|उदाहरण के लिए 1 अप्रैल, 1998 से सिर्फ  5,000 रुपये का निवेश 1 अप्रैल, 2017 तक 2.38 करोड़ रुपये हो जाता|

रिलायंस ग्रोथ फंड‘: बीते 20 साल में  रिटर्न के हिसाब से दूसरे नंबर पर आता है|उदाहरण के लिए 1 अप्रेल 1998 से 1 अप्रेल 2017 तक 5000 रु प्रतिमाह का आसान निवेश 2.12 करोड़ रूपये का रिटर्न बन जाता है|

एचडीएफसी इक्विटी फंड‘: पिछले 20 साल में इसका सीएजीआर 23.56 प्रतिशत रहा है| यानी  1 अप्रैल, 1998 से इस फंड में सिप के ज़रिये 5,000 रुपये माहवार का निवेश 1 अप्रैल, 2017 को आपके खाते में 1.95 करोड हो जाता|

रिलायंस विज़न फंड‘, जिसका सीएजीआर रिटर्न पिछले 20 वर्ष के दौरान 19.92 फीसदी रहा है| इस म्यूचुअल इक्विटी फंड में अगर आप 20 साल पहले 5,000 रुपये प्रतिमाह के हिसाब से निवेश करते, तो आपके खाते में 1.46 करोड़ रुपये जमा होते|

एचडीएफसी टॉप 200 फंड‘, :जिसका सीएजीआर रिटर्न शुरुआत से अब तक 20.88 फीसदी रहा है, और अगर इस फंड में ठीक 20 साल पहले आपने 5,000 रुपये मासिक का निवेश करना शुरू किया होता, तो आज आपका फंड 1.43 करोड़ रुपये का होता|

निवेश के तीन मंत्र:

  • लम्बे समय के लिए करें निवेश|
  • एसआईपी के माध्यम से करें आसान निवेश|
  • बाजार में उतार चढाव के बीच अपना निवेश बरकरार रखें|

नोट: इक्विटी  म्युचुअल फंड में रिटर्न की दर शेयर बाजार  के अनुसार बदलती रहती है|पुरानी रिटर्न के आधार पर निवेश कभी कभी जोखिम बढ़ा देता है|हालांकि इक्विटी आधारित फंड दीर्घकालीन निवेश में हमेशा लाभप्रद होते हैं|अतः म्युचुअल फंड में निवेश से पूर्व शेयर बाजार एवं वर्तमान रिटर्न की दर का ध्यान अवश्य रखना चाहिए|