Arthgyani
होम > न्यूज > अर्थव्यवस्था समाचार > ऑनलाइन शॉपिंग में 21 प्रतिशत की गिरावट आई

आर्थिक मंदी का असर ऑनलाइन शॉपिंग के कई सेगमेंट पर

ऑनलाइन शॉपिंग में 21 प्रतिशत की गिरावट आई

जब भी शॉपिंग की बात आती है हमें ऑनलाइन शॉपिंग ही बेस्ट ऑप्शन नजर आता है| लेकिन 2019 में कई सेक्टरो में मंदी देखी जा रही है जैसे कि ऑटो सेक्टर,  बैंक में काफी मंदी है| लेकिन मंदी का गहरा असर अब ऑनलाइन शॉपिंग के भी कई सेगमेंट में पड रह है| Kantar ग्रुप के एमडी (इनसाइट्स डिवीजन) हेमंत मेहता का कहना है कि, “आर्थिक सुस्ती का ऑनलाइन शॉपिंग करने वाले ग्राहकों पर गहरा असर पड़ा है| ग्राहक ऑनलाइन शॉपिंग बहुत सोच समझकर कर रहे हैं| 

रिसर्च कंसल्टेंसी फर्म Kantar की रिपोर्ट के मुताबिक, ई-टेलर्स के डिस्काउंट घटाने और आर्थिक सुस्ती के कारण खरीदारों को निराशा मिली है| पहले ग्राहकों की तरफ से टिकट साइज में औसतन 27 प्रतिशत और औसत खर्च में 21 प्रतिशत की गिरावट आई है| इसका पहला कारण डिस्काउंट में हुई कटौती, जो कि 2018 से 2019 के बीच लगभग आधी हो गई| Kantar ग्रुप ने रिपोर्ट तैयार करने से पहले 50,000 ग्राहकों के ऑनलाइन परचेज बिहेवियर की स्टडी की थी|

विदित हो, ऑनलाइन शॉपिंग के कई वर्गों में खरीदारों की संख्या घटी है|  इलेक्ट्रोनिक सेगमेंट में मोबाइल फोन खरीदारों में 17 प्रतिश्त और फैशन सेगमेंट के ग्राहकों की संख्या में 16 फीसदी गिरावट आई है|

बता दे, ऑनलाइन शॉपिंग पर पहले मंदी का असर नहीं था, लेकिन 2019 के शुरुआती छह महीनो से बायर्स की संख्या और खर्च में काफी गिरावट आई है| ऑनलाइन शॉपिंग साइटों पर ग्राहकों का खर्च इस साल की पहली छ: महीनों  में घटकर एक चौथाई रह गया है|