Arthgyani
होम > म्यूच्यूअल फंड > म्युचुअल फंड

आसान है म्युचुअल फंड में निवेशित राशि की निकासी

4-5 कार्यदिवसों में पैसे मिल जायेंगे

म्युचुअल फंड में निवेशकों का रुझान बढने का कारण है इसकी सरलता| म्युचुअल फंड में निवेश से निकासी तक निवेशक की सुगमता का पूरा ध्यान रखा जाता है|फंड में उपलब्ध  यूनिट को रिडीम करने पर पैसा तुरंत निवेशक के बैंक अकाउंट में जाता है।आज हम आपको बतायेंगे सरल निकासी की प्रक्रिया|

क्या है निकासी की प्रक्रिया?

म्युचुअल फंड से धन निकासी के लिए आपको एक तय प्रक्रिया का पालन करना होता है। इसके लिए सर्वप्रथम आपको  एक ट्रांजैक्शन स्लिप भरनी होगी।जिसे म्युचुअल  फंड हाउस की वेबसाइट से डाउनलोड किया जा सकता है।अथवा आप अपने अकाउंट स्टेटमेंट के आखिर से इसे डिटैच कर सकते हैं। इस एप्लिकेशन को फंड हाउस अफसर के पास जमा करना होगा।  कई फंड हाउस ऑनलाइन भी यह सुविधा देते हैं। अगर आपने ऑनलाइन म्युचुअल फंड में इन्वेस्ट किया है तो आप ऑनलाइन भी इस सुविधा का फायदा उठा सकते हैं।

प्राप्त होने वाली राशि की गणना कैसे करें?

म्युचुअल फंड से प्राप्त होने वाली राशि की गणना के लिए उस दिन फंड में मौजूद यूनिट्स की संख्या को उस दिन के एनएवी से गुणा करें।इसके फलस्वरूप राशि आपको प्राप्त होने वाली राशि होगी|हालांकि, इस रकम पर  एग्जिट लोड (अगर है) तो उसे घटाकर राशि की गणना की जाती है|इसके अतिरिक्त सिक्योरिटी ट्रांजैक्शन टैक्स की कटौती भी निर्धारित शर्तों के अनुसार संभावित होती है|

कितना लगता है समय?

निवेशक के मन में अक्सर ये प्रश्न आता है कि वो म्युचुअल फंड में उपलब्ध धनराशि को कितने दिनों में प्राप्त कर सकते हैं?आपको बता दें लिक्विड या डेट-ओरिएंटेड यूनिट्स के लिए रिडेम्पशन प्रक्रिया दो दिन और इक्विटी म्युचुअल फंड्स के लिए 4-5 वर्किंग डे में पूरी हो जाती है।अर्थात आपको अधिकतम 4-5 कार्यदिवसों में पैसे मिल जायेंगे।निर्धारित दिवस सीमा के भीतर निकासी  की रकम निवेशक के बैंक खाते में आ जाती है।अगर निवेशक कीबैंक डीटेल फंड हाउस के पास  नहीं होगी तो उन्हें चेक के माध्यम से यह रकम मिल जाती है।

निकासी पर क्या चार्ज या लोड चुकाने होते हैं?

अधिकांश इक्विटी-आधारित म्युचुअल फंड स्कीमों में इनको खरीदारी के एक साल के भीतर रिडीम करने पर 1 फीसदी एग्जिट लोड चुकाने का प्रावधान होता है। लिक्विड या अल्ट्राशॉर्ट-टर्म फंड्स जैसी कुछ ऐसी भी स्कीमें हैं जिनमें कोई एग्जिट लोड नहीं होता है। ऐसे में अगर आप कोई इक्विटी म्युचुअल फंड होल्ड कर रहे हैं और आप इसे एक साल के भीतर रिडीम करना चाहते हैं तो एग्जिट लोड को एनएवी से डिडक्ट किया जाएगा जो कि आपके प्रति यूनिट रिडेम्पशन पर लागू होगा।