Arthgyani
होम > न्यूज > आ रहे हैं 500-500 करोड़ के दो IPO, इन्वेस्ट करने की कर लें तैयारी

आ रहे हैं 500-500 करोड़ के दो IPO, इन्वेस्ट करने की कर लें तैयारी

प्रिंस पाइप्स और इज माय ट्रिप ने अपने-अपने आईपीओ लाने के लिए कस ली है कमर  

पिछला कुछ समय आईपीओ के लिए बहुत ही बेहतरीन रहा है| विगत कुछ महीनों में आए लगभग सभी आईपीओ ने निवेशकों को अच्छा रिटर्न दिया है| इसी बात से उत्साहित होकर दो नई मगर स्थापित कंपनियों ने भी अपने-अपने IPO लाने की तैयारी कर ली है| प्रिंस पाइप्स का आईपीओ जहां 18 दिसंबर को खुल रहा है, वहीं इज माय ट्रिप ने SEBI के पास आईपीओ के लिए अपने दस्तावेज जमा कराए हैं|

प्रिंस पाइप्स का आईपीओ 18 से 20 दिसंबर तक खुला रहेगा

प्रिंस पाइप्स का आईपीओ 18 दिसंबर से खुलने वाला है और 20 दिसंबर को बंद हो जाएगा| इस IPO का साइज 500 करोड़ रुपए का है| इसमें से 250 करोड़ रुपए का फ्रेश इश्यू है| वहीं 250 करोड़ का ऑफर फॉर सेल है| आईपीओ का प्राइस बैंड 177-178 रुपए तय किया गया है| आईपीओ लाने से पहले कंपनी के ED पराग छेडा ने CNBC-आवाज़ के साथ बातचीत में कहा की, ‘इस आईपीओ के जरिए कंपनी का लक्ष्य 500 करोड़ रूपए प्राप्त करने का है| जिसमें से 250 करोड़ रूपए के फ्रेश शेयर होंगे, वहीं 250 करोड़ रूपए के सेकेंडरी शेयर होंगे| प्राइमरी शेयर के बिक्री से प्राप्त रुपयों में से 180 करोड़ का इस्तेमाल नए प्लांट लगाने में किया जाएगा, जोकि तेलंगाना के संगारेड्डी में स्थापित हो रहा है| वहीं 50 करोड़ रूपए टर्म लोन के भुगतान में किया जाएगा| वहीं 180 करोड़ रूपए अन्य यूनिट के उत्थान के लिए खर्च करेगी|’

विदित हो कि प्रिंस पाइप्स  प्लंबिंग, सीवेज और कृषि में प्रयोग होने वाले पाइप बनाती है| देश भर में इसके लगभग 1400 वितरक हैं| भारत में कंपनी के अभी 6 प्लांट हैं|

Ease My Trip ने रखा है 510 करोड़ रुपए जुटाने का लक्ष्य

ऑनलाइन ट्रैवल कंपनी ईज माय ट्रिप ने 510 करोड़ रुपए के आईपीओ के लिए सेबी के पास दस्तावेज जमा कराए हैं| यदि यह आईपीओ सफलता पूर्वक लिस्टेड हो जाती है तो यह देश की पहली सूचीबद्ध ऑनलाइन ट्रैवल एजेंसी होगी| आईपीओ के जरिये कंपनी 255-255 करोड़ रुपए के शेयरों की बिक्री करेगी| इस कंपनी में दो निदेशक हैं और दोनों ही निदेशक 255-255 करोड़ रुपए के शेयरों की बिक्री करेंगे| कंपनी ने कहा है कि सार्वजनिक निर्गम लाने का मकसद इक्विटी शेयरों के शेयर बाजारों पर लिस्टिंग का फायदा लेना है| कंपनी के आईपीओ का मैनेजमेंट एक्सिस कैपिटल और जेएम फाइनेंशियल करेंगी|

 कंपनी ने किया है जबरदस्त वृद्धि और विस्तार 

कंपनी के हाल के आंकड़ों की बात करें तो वित्त वर्ष 2018-19 में कंपनी ने 29.3 करोड़ रूपए का नेट प्रॉफिट दर्ज किया था, जो एक साल पहले 6.6 करोड़ रुपये का था| कंपनी का रेवेन्यू भी 33 फीसदी बढ़कर 151.1 करोड़ रुपए रहा| वित्त वर्ष 2018-19 के अंत तक कंपनी की नकदी 7.67 करोड़ रुपए से 34.08 करोड़ रुपए तक पहुंच गई है|

 गौरतलब ईज माय ट्रिप ने ऑनलाइन ट्रैवल कंपनियों के घाटा दर्ज करने की प्रथा को तोड़ते हुए लगातार मुनाफा कमाया है| ईज माय ट्रिप की शुरुआत साल 2008 में रिकांत पिट्टी, निशांत पिट्टी और प्रशांत पिट्टी नाम के भाइयों ने की थी| यह पहले एक B2B वेंचर था, जो ट्रेवल एजेंट्स को हवाई यात्रा के टिकट देता था| कंपनी ने अपने शुरूआती तीन साल में ही अपने साथ 18,000 एजेंटो को जोड़ने में सफल रही थी| साल 2011 में कंपनी ने सीधे ग्राहकों को जोड़ना शुरू कर दिया| कंपनी ने अपने व्यापार के शुरुआत में कंन्वीनियंस फीस को माफ किया, जिससे ग्राहकों को करीब 6 फीसदी तक की बचत हो रही थी| इस साल भी कंपनी ने जेट प्रिवलेज के साथ हाथ मिलाया और ग्राहकों को कई ऑफर पेश किए है|

विदित हो की यह साल आईपीओ के द्वारा जबरदस्त कमाई करने वाला साल रहा है| हाल के महीनों में IRCTC, उज्जीवन स्मॉल फाइनेंस बैंक, CSB बैंक के आईपीओ ने जबरदस्त लिस्टिंग की| इस साल कुल 14 कंपनियों के पब्लिक इश्यू लॉन्च हुए और लगभग सभी आईपीओ ने निवेशकों को अच्छी कमाई कराई| अब दो नई कंपनी अपना आईपीओ लाने की तैयारी कर रही है| निवेशक इस बार कैसी प्रतिक्रिया देते हैं यह देखना दिलचस्प होगा| ऐसे चलते-चलते यह जानकारी दे दें कि उज्जीवन स्मॉल फाइनेंस बैंक और CSB बैंक के शेयरों का मूल्य अपने लिस्टिंग मूल्य से लगभग 20% निचे आ चूका है|