Arthgyani
होम > न्यूज > इंडिगो

इंटरग्लोब एविएशन की कुल आय 8,539.8 करोड़ रूपये दर्ज

कंपनी पर पूंजीगत पट्टा देनदारी समेत कुल 19,841.8 करोड़ रुपये का कर्ज है।

मंदी की मार ने देश के हर सेक्टर को झकझोर कर रख दिया है। टेक्सटाइल सेक्‍टर, ऑटो सेक्टर, एफएमसीजी, के बाद एविएशन इंडस्‍ट्री भी घाटे में चल रही है। हालात काफी बिगडते दिखाई दे रहे हैं। देश की अधिकतर एयरलाइन कंपनियां कर्ज के बोझ में दबी हैं या फिर घाटे में चल रही हैं। विदित हो, इंडिगो देश की सबसे बड़ी एयरलाइन कंपनी है। कंपनी पर पूंजीगत पट्टा देनदारी समेत कुल 19,841.8 करोड़ रुपये का कर्ज है। पिटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक़ इंडिगो की इंटरग्लोब एविएशन कंपनी को सितम्बर तिमाही में 1,062 करोड़ रूपये जितनी गिरावट दर्ज हुई| वहीं कंपनी ने बताया की चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में इंटरग्लोब की कुल आय 31 फीसदी थी, जो कि 8,539.8 करोड़ रुपये हो गई। वित्त वर्ष 2018-19 में सितंबर तिमाही में कंपनी की आय 6,514.1 करोड़ रुपये थी। बता दें, कंपनी को टैक्स में भी सितंबर तिमाही में 1,031.8 करोड़ रुपये जितना घाटा हुआ, जो कि एक साल पहले की इसी तिमाही में 987.2 करोड़ रुपये था। संपत्तियों के बाजार मूल्य में कमी और रखरखाव की अधिक लागत की वजह से कंपनी का लाभ प्रभावित हुआ। कंपनी की कुल लागत सितंबर तिमाही में करीब 28 फीसद बढ़कर 9,571.6 करोड़ रुपये हो गई।

इंडिगो के मुख्य अधिकारी रोनोजॉय दत्ता ने बताया कि, तिमाही के दौरान कंपनी ने अच्छा प्रदर्शन किया। भारतीय लेखा मानक 116 के तहत विमान पट्टा देनदारी पर भारतीय मुद्रा के विनिमय दरों में उतार-चढ़ाव के पुनर्मूल्यांकन में घाटा हुआ। कंपनी की वृद्धि योजना पर कार्य किया जा रहा है| घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विस्तार कर रहे हैं।