Arthgyani
होम > बाजार > शेयर बाजार > इंट्रा-डे ट्रेडिंग

इंट्राडे में अच्छा मुनाफ़ा इंट्रा-डे ट्रेडिंग कैसे कमाएं- कुछ ज़रूरी स्टेप्स

किसी भी चुने हुए स्टॉक को लेकर तक़रीबन एक सप्ताह मार्केट में उसके उतर चढ़ाव पर अध्ययन करें।

कोई भी नए निवेशक अक्सर इस दुविधा में फंसे रहते है कि शेयर बाज़ार में मुनाफ़ा के लिए कौन सा ऑप्शन चुने डिलीवरी बेसिस ट्रेडिंग में या इंट्रा-डे ट्रेडिंग। अगर आपने तय कर लिया है कि आपको प्रतिदिन प्रॉफिट चाहिए तो इंट्रा -डे ट्रेडिंग ही आपके लिए सही चुनाव है और प्रॉफिट इसमें संभव है। इंट्रा-डे ट्रेडिंग में एक ही ।दिन में शेयर खरीद कर उसे मार्केट बंद होने से पहले बेच दिया जाता है। इसे डे-ट्रेडिंग भी कहते हैं।
आपको यह ध्यान में रखना होगा कि शेयरों में निवेश में काफ़ी जोख़िम भी है। शेयर बाज़ार में शेयरों के भाव स्थिर नहीं रहते। किसी कंपनी के शेयर में निवेश करने से पहले उसके कारोबार, शेयरों की सही कीमत (मूल्यांकन) और उसके कारोबार की संभावनाओं को जानना ज़रूरी है। आम तौर पर जब शेयर का भाव कम होता है या बाज़ार में कमज़ोरी पर शेयर ख़रीदने के लिए सबसे अच्छा समय माना जाता है। आपने जो शेयर ख़रीदा है, जब उसका दाम बढ़ जाए तो उसे आप बेच सकते हैं। शेयर मार्केट में ट्रेडिंग की शुरुआत बहुत कम रकम से की जा सकती है। इंट्रा-डे में मुनाफ़ा कमाने के लिए कुछ ज़रूरी बातों को फ़ॉलो करना होगा। निवेश से पहले आपको सूक्ष्मता से मार्केट का अध्ययन करना होगा।

कैसे करें अध्ययन

सबसे पहले कोई अधिक move देने वाला एक या दो स्टॉक चुने। उसके बाद आपको नज़र रखनी है कि सुबह 9 बजे यह स्टॉक किधर जा रहा है तथा निफ़्टी किधर जा रही है। अक्सर यह निफ़्टी के साथ ही चलता है तथा c की चाल के साथ ही बंद होता है। फिर भी आप सतर्कता से काम लें। देखें की मार्किट खुलने के बाद यह कितने पॉइंट्स तक हाई जाता है और कब नीचे गिरना शुरू होता है। इसपे भी नज़र रखे की कितने पॉइंट्स तक नीचे गिरता है सुबह 9 बजकर 10 मिनट पर देखे की इसने हाई कितना बनाया है जो उसके buy एंड sell रेट से पता चल जाएगा। देखे की नीचे या ऊपर किस रेट तक जा सकता है। एक सप्ताह के बाद आप मार्केट को समझने लगे तो काम शुरू करें।

इंट्रा-डे ट्रेडिंग के लिए महत्वपूर्ण बातें –

  • हमेशा अधिक move देने वाला c चुने।
  • किसी भी चुने हुए स्टॉक को लेकर तक़रीबन एक सप्ताह अपना ये अध्ययन जारी रखे।
  • स्टॉक का रेट नीचे गिरने का पता चलते ही जब रेट ऊपर जाने लगे तो buy कर लें  4 या 5 पॉइंट्स ऊपर ही सेल कर दें।
  • एक ही बार में ज़्यादा मुनाफ़ा कमाने के चक्कर में नुकसान में ना पड़ें फिर पुनः अगर आपको लगे की ये नीचे आएगा तो पुनः खरीद सकते हैं।
  • स्टॉपलॉस अंकित करना मत भूलें।
  • शुरुआत में आप छोटी छोटी रकम लगाकर, छोटे छोटे मुनाफ़े करते हुए आगे बढ़ें।