Arthgyani
होम > म्यूच्यूअल फंड > इंडेक्स फंड

इंडेक्स फंड क्या है और क्यों है अन्य म्यूच्यूअल फंड से अलग

इंडेक्स फंडों में ट्रैकिंग एरर कम होता है।

इंडेक्स फंड अपने नाम के ही अनुरूप है अर्थात इस तरह के म्यूच्यूअल फंड, शेयर बाज़ार के किसी इंडेक्स में शामिल कंपनियों के शेयरों में निवेश करते हैं। भारतीय शेयर बाज़ार में अधिकांश व्यापार अपने दो स्टॉक एक्सचेंजों या इंडेक्स पर होता है : बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE)।  इसका मतलब है कि इंडेक्स फंड एक ही इंडेक्स में सभी शेयरों को अपने संबंधित इंडेक्स के रूप में ख़रीदता हैं, जिससे इंडेक्स के साथ बेहतर तालमेल के साथ परफॉर्मेंस देता है।

इंडेक्स में सभी कंपनियों का जितना वज़न (वेटेज) होता है, स्कीम में उसी अनुपात में उनके शेयर ख़रीदे जाते हैं। ऐसे फंडों का प्रदर्शन या पोर्टफ़ोलियो उस इंडेक्स जैसा ही होता है, जिसको वे ट्रैक करते हैं। सक्रिय रूप से मैनेज्ड म्यूचुअल फंड से विपरीत, इंडेक्स फंड एक विशेष इंडेक्स के रूप में परफॉर्मेंस को पैसिव रूप (निष्क्रिय रूप) से ट्रैक करते हैं।

इंडेक्स फंड (Index Fund) की ख़ास बातें

  • पैसिव इंवेस्टमेंट स्ट्रैटेजी अपनाने के कारण इसे पैसिव फंड भी कहते हैं
  • यह इंडेक्स के साथ बेहतर तालमेल के साथ परफॉर्मेंस देता है।
  • इसके प्रबंधन में अन्य म्यूच्यूअल फंड के मुक़ाबले कम ख़र्च आता है।
  • इंडेक्स फंडों में ट्रैकिंग एरर कम होता है।
  • इंडेक्स फंड उन निवेशकों के लिए हैं जो सक्रिय रूप से प्रबंधित फंडों से जुड़े जोख़िम नहीं उठाना चाहते।
  • ये फंड बाज़ार से बेहतर परफॉर्मेंस देने के लिए नहीं अपितु इंडेक्स के परफॉर्मेंस की नक़ल के लिए है।

इंडेक्स फंड के इसी पैसिव इंवेस्टमेंट स्ट्रैटेजी को अपनाने के कारण इसे पैसिव फंड भी कहते हैं अर्थात इनका सक्रिय रूप से प्रबंधन नहीं किया जाता है। इंडेक्स फंड में बेंचमार्क को पीछे छोड़ने की कोई होड़ नहीं होती। वहीं, एक्टिव फंडों में मैनेज़र लगातार कोशिश करते हैं कि बेंचमार्क से ज़्यादा रिटर्न बनायीं जाये। इंडेक्स फंडों का निवेश में होने वाला ख़र्च अमूमन 0.5 फ़ीसदी या इससे कम होता है। जबकि सक्रिय तौर से प्रबंधित किए जाने वाले फंडों में एक्सपेंस रेशियो एक फ़ीसदी से ढाई फ़ीसदी है। यानी सक्रिय रूप से प्रबंधित किए जाने वाले फंडों के मुक़ाबले इंडेक्स फंडों पर कम ख़र्च आता है।

इंडेक्स फंडों में ट्रैकिंग एरर कम होता है। इससे इंडेक्स को इमेज़ करने की एक्यूरेसी बढ़ जाती है। इस तरह रिटर्न का ज़्यादा  सटीक अनुमान लगाया जा सकता है। ट्रैकिंग एरर या एक्टिव रिस्क निवेश के पोर्टफोलियो में जोख़िम का आकलन है। यह इस बात को दर्शाता है कि पोर्टफोलियो कितने करीब से इंडेक्स का पालन करता है।

इंडेक्स फंड उन निवेशकों के लिए हैं जो शेयरों में निवेश तो करना चाहते हैं, लेकिन सक्रिय रूप से प्रबंधित फंडों से जुड़े जोख़िम में नही पड़ना चाहते। ये फंड बाज़ार से बेहतर परफॉर्मेंस देने के लिए नहीं हैं, लेकिन इंडेक्स के परफॉर्मेंस की नकल करते हैं।