Arthgyani
होम > न्यूज > इलेक्ट्रॉनिक्स बाजार

इलेक्ट्रॉनिक्स बाजार को आने वाले वर्षों में 1.48 लाख करोड़ बढ़ाने की संभावनायें

इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पाद बाजार को 2024-25 तक दुगना करने की संभावनाएं

सभी उद्योग और उत्पादन के क्षेत्रों में होड़ है, सरकार हर क्षेत्र को सराहना दे रही है|आर्थिक सहायता भी प्रदान कर रही है,  उद्योग बाजार में बढ़त होने की सम्भावनायें हैं|इसी तरह इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पाद उद्योग ने वर्ष 2024 से 20 25 तक बाजार को दोगुना करने की संभावनाएं जताई हैं, जिसमें 1.48 लाख करोड़ रूपये तक पहुंचाने का निर्णय लिया है|

इलेक्ट्रॉनिक्स एवं टिकाऊ उपभोक्ता उत्पाद बनाने वाली कंपनियों के संगठन सीमा और फ्रॉस्ट एंड सुलिवन की रिपोर्ट के अनुसार ग्रामीणजनों की मांग बढ़ने से उद्योग को बढ़त की उम्मीद है|उत्पादों को बदलने के क्रम में कमी आने से, खुदरा बाजार के बढ़ने, ब्रांड का विकल्प बढ़ने और एक ही उत्पाद के विभिन्न मूल्यवर्ग में उपलब्ध होने से उद्योग को बढ़त मिलने की उम्मीद है।

इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पाद का कुल बाजार 76,400 करोड़ 

एजेंसी की खबर के मुताबिक़, वर्ष 2018-19 में इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पाद बाजार के उद्योग का कुल बाजार 76,400 करोड़ रुपये था। इसमें घरेलू विनिर्माण की हिस्सेदारी 32,200 करोड़ रुपये थी। इलेक्ट्रॉनिक्स एवं टिकाऊ उपभोक्ता उत्पाद में एयर कंडीशनर, रेफ्रिजरेटर, वाशिंग मशीन, टेलीविजन और ऑडियो वस्तुओं में अच्छी बिक्री देखी गयी है। इन वर्षों में 2018-19 इन सभी इलेक्काट्रोनिक चीजों की बाजार बिक्री 76,400 करोड़ रुपये रही है। इस तरह घरेलू चीजों की 34 प्रतिशत हिस्सेदारी है, जिसकी साल 2024-25 तक 54 प्रतिशत बढ़ने की उम्मीद है|

  • वर्ष 2018-19 में टीवी का बाजार 175 लाख रहा जो कि बढ़कर 284 लाख हो सकता है|वाशिंग मशीन के बाजार का 126 लाख रूपये होने की उम्मीद है|
  • वर्ष 2018-19 में एयर कंडीशनर का बाजर 65 लाख रहा, जो कि वर्ष 2024-25 तक बढ़कर बाजर में 165 लाख होने की उम्मीद की जा रही है|
  • वहीं रेफ्रिजरेटर का बाजार वर्ष 2018-19 में 145 लाख रूपये था जबकि 2025 तक बढ़कर 275 लाख होने की उम्मीद है|

कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स एंड एप्लायंसेस मैन्युफैक्चर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष कमल नंदी ने बताया, इलेक्ट्रॉनिक्स का घरेलू विनिर्माण बढ़ रहा है और पिछले कुछ सालों में घरेलू कंपनियों ने 7,000 करोड़ रुपये का निवेश भी किया है।