Arthgyani
होम > व्यक्तिगत निवेश > एफडी

इस दिवाली करें एफ डी में निवेश:

एफडी ब्याज दरों की तुलना अवश्य करनी चाहिए

दिवाली निवेश आधारित पर्व है|दिवाली पर लक्ष्मी पूजन की परम्परा मुख्य रूप से निवेश का प्रतीक है|दिवाली पर सोना एवं आभूषण खरीदने की परम्परा का मुख्य उद्देश है बचत|बचत हमारे भावी जीवन को सुखमय बनाती है|दिवाली पर खरीदी गयी सोना एवं चांदी हमारे पूर्वज हमे विरासत के रूप सौपते हैं|छोटी सी बचत भी बड़े लक्ष्यों को पूरा कर सकती है|दिवाली का पर्व हमें बचत एवं निवेश का सन्देश देता है|बढती मांग के कारण सोने चांदी की खरीद आम आदमी के लिए काफी मुश्किल हो जाती है|ऐसे में बोनस या बचत के रुपयों को एफडी में भी निवेशित किया जा सकता है|

क्या है एफडी ?

फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी) भारत में निवेश के प्रचलित माध्यमों में से एक है। निवेश की अवधि के आधार पर एफडी की ब्याज दरें आवर्ती जमा या बचत खाते से बेहतर रिटर्न देती हैं|एफडी एक  डिपॉजिट स्कीम है जहां आप एक निश्चित अवधि के लिए एकमुश्त  निवेश राशि जमा कर सकते हैं।इसकी  परिपक्वता पर,मूल राशि के साथ-साथ उस पर अर्जित ब्याज भी मिलेगा। फिक्स्ड डिपॉजिट स्कीम में निवेश करते समय,विभिन्न बैंकों की एफडी ब्याज दरों की तुलना अवश्य करनी चाहिए|

एफडी योजनाओं के प्रकार:

  1.  मानक सावधि जमा योजना:  ये नियमित सावधि जमा योजना है| जिसमें 7 दिनों से लेकर 10 साल तक की निश्चित अवधि निवेश के विस्तृत विकल्प मिलते हैं। एफडी ब्याज दरें जमा के समय निर्धारित की जाती हैं। जारीकर्ता द्वारा जमा राशि, अवधि नियमित नागरिक एवं  वरिष्ठ नागरिक योजना के आधार पर भिन्न होती है।
  2. फ़्लोटिंग रेट फिक्स्ड डिपॉज़िट: इस योजना में, एफडी ब्याज दरें तय नहीं होती हैं। यह बदलते बाजार के आधार पर परिवर्तित होता रहता है।इसमें निवेशक को एफडी ब्याज दरों में बदलाव (यह बढ़ता है) का लाभ मिलता है।
  3. टैक्स सेविंग फिक्स्ड डिपॉजिट: इस योजना में निवेशक को टैक्स की बचत का लाभ निर्धारित सीमाओं तक मिलता है| इस FD स्कीम में न्यूनतम जमा अवधि पांच साल और अधिकतम 10 साल है।हालाकि इस योजना में समय से पहले निकासी या पांच साल तक की आंशिक निकासी की अनुमति नहीं है। इस योजना के तहत, निवेशकको 1,50,000 तक की धनराशि पर धारा 80सीआयकर अधिनियम, 1961 के तहत कर लाभ मिलता है|

इन बैंकों में करें निवेश:

धनतेरस और दिवाली निवेश का सही वक्त होता है|बैंक एफडी अपने और अपने परिवार के सुरक्षित भविष्य का बेहतर विकल्प है|आज जानते हैं उन बैंकों के बारे में जो आपको 1 साल, 3 साल और 5 साल की एफडी में सबसे ज्यादा ब्याज दे रहे हैं|

बैंक ब्याज दर 1 वर्ष में
Idfc 8
Rbl 7.65
Laxmi vilas 7.50
Indusind 7.25
Yes 7.25

3 वर्षों में:

बैंक ब्याज दर 3 वर्षों में
Dcb 8
Au small finance 7.77
Laxmi vilas 7.50
Idfc 7.50
Rbl 7.35

5 वर्षों में

बैंक ब्याज दर 5 वर्षों में
Dcb 7.75
Idfc 7.50
Rbl 7.50
Au small finance 7.50