Arthgyani
होम > न्यूज > व्यापार समाचार > इस साल मुकेश अंबानी की संपत्ति में हुआ 17 अरब डॉलर का इजाफा

इस साल मुकेश अंबानी की संपत्ति में हुआ 17 अरब डॉलर का इजाफा

रिलायंस इंडस्ट्रीज और जिओ ने किया सबसे ज्यादा योगदान

एशिया और भारत के सबसे अमिर शख्स मुकेश अंबानी के लिए यह साल बहुत अच्छा रहा| इस साल उन्होंने चौतरफा विकास किया| जहां शेयर बाज़ार में मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज ने रिकॉर्ड बनाया तो दूसरी तरफ साउदी की तेल कंपनी आरामको  के साथ साझेदारी कर वैश्विक स्तर पर भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराई|

मुकेश अंबानी की संपत्ति में इस साल 23 दिसंबर तक तकरीबन 17 अरब डॉलर (1.21 लाख करोड़ रुपए) का इजाफा हुआ| इसके चलते उनकी नेटवर्थ 61 अरब डॉलर (4.34 लाख करोड़ रुपए) हो गई| यह जानकारी ब्लूमबर्ग बिलियनेर्स इंडेक्स में सामने आई है| मुकेश अंबानी के मुकाबले में अलीबाबा के फाउंडर जैक मा की संपत्ति मात्र 11.3 अरब डॉलर बढ़ी (80,483 करोड़ रुपए), जबकि जेफ बेजोस को 13.2 अरब डॉलर (94 हजार करोड़ रुपए) की क्षति हुई|

RIL के शेयरों में आया 40 फीसदी का उछाल

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक मुकेश अंबानी की संपत्ति में इस इजाफे के पीछे प्रमुख वजह रही उनकी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) के शेयरों में 40 फीसदी का उछाल आया| ज्ञात हो कि यह उछाल इस अवधि में देश के बेंचमार्क S&P BSE सेंसेक्स इंडेक्स के मुनाफे के दोगुने से भी ज्यादा है| इन्वेस्टर्स रिलायंस में जी खोल कर पैसा लगा रहे हैं| उन्हें उम्मीद है कि टेलीकम्युनिकेशंस और रिटेल जल्द ही मोटा पैसा बरसाएंगे| देश में अमेजन की तर्ज पर लोकल ई-कॉमर्स खड़ा करने के लक्ष्य के तहत अंबानी ने जियो पर अब तक तकरीबन 50 अरब डॉलर खर्च किए हैं| इसका नतीजा यह हुआ कि तीन साल में जियो इस क्षेत्र में नंबर 1 हो गया है|

ई-कॉमर्स कंपनी से बड़ी उम्मीदें

भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार मुकेश अंबानी ने अगस्त में कहा था कि ऑयल और गैस जैसे पारंपरिक व्यापारों से इतर टेलीकम्युनिकेशंस और रिटेल जैसे नए कारोबारों से कुछ सालों में रिलायंस की 50 फीसदी कमाई होगी| फिलहाल यह 32 फीसदी है| 2021 तक अपने ग्रुप को कर्ज मुक्त बनाने के अंबानी के लक्ष्य ने रिलायंस के स्टॉक को रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचा दिया| रिलायंस के शेयर्स की कीमत 2016 के अंत से अब तक लगभग तीन गुना हो गई है| कंपनी की योजनाओं में रिलायंस के ऑयल-टू-केमिकल बिजनेस में सऊदी अरेबियाई ऑयल कंपनी को हिस्सेदारी देना, टेलीकम्युनिकेशंस और रिटेल यूनिट को पांच साल के अंदर लिस्ट कराना, टॉवर असेट की सेल शामिल है|

रिलायंस इंडस्ट्रीज पर है 1.54 लाख करोड़ रुपए का कर्ज

रिलांयस जियो के देशभर में 35 करोड़ से ज्यादा यूजर्स हैं| जियो ने सितंबर तिमाही में 9.96 अरब रुपए की नेट इनकम की थी| इसके बावजूद कंपनी पर बढ़ता कर्ज इन्वेस्टर्स को परेशान करता रहा है| पिछले पांच साल में रिलायंस इंडस्ट्रीज ने 76 अरब डॉलर खर्च किए हैं| कंपनी पर मार्च 31 तक 1.54 लाख करोड़ रुपए का कर्ज है, यह चिंताजनक बात है मगर मुकेश अंबानी समूह ने 2021 का कर्ज को शून्य पर लाने की इच्छा और संकल्प जताया है, इसके लिए कंपनी बहुत प्रयास कर रही है|

विदित हो कि जिओ के आने के बाद से रिलायंस के अन्य कंपनियों के साख में काफी इजाफा हुआ है| 2016 में रिलायंस जियो की शुरुआत हुई थी जिसके बाद से रिलायंस के शेयरों में तीन गुना की वृद्धि हुई है और RIL ने सारे रिकॉर्ड को तोड़ते हुए भारतीय शेयर बाज़ार की सबसे बड़ी मार्केट कैपिटल वाली कंपनी बन गई है|

जानकारी के लिए आपको बताते चलें कि माइक्रोसॉफ्ट वाले बिल गेट्स अभी भी दुनिया के सबसे अमीर शख्स हैं और दूसरे नंबर पर अमेजन वाले जेफ बैजोस हैं| वहीं एशिया के सबसे अमीर शख्स मुकेश अंबानी हैं| मुकेश अंबानी का विश्व के अमीरों में 13वां और एशिया व इंडिया में पहला स्थान है|