Arthgyani
होम > न्यूज > व्यापार समाचार > इस्पात बाजार पर निगरानी रखने के लिए तीन ऐप लांच की जाएगी

ईसीआईएस से निर्यातकों को सस्ती दर पर मिलेगी पूंजी: पीयूष गोयल

इस्पात बाजार पर निगरानी रखने के लिए तीन ऐप लांच की जायेगी

केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री गोयल ने कहा कि, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मंदी का प्रभाव दिखाई दे रहा है और इसके प्रभाव से निपटने के लिए निर्यात ऋण पर बीमा का दायरा 60% से बढ़ाकर 90% निर्णय लिया गया है| इस निर्णय से निर्यात ऋण बीमा योजना (ईसीआईएस) से निर्यातकों को सस्ती दर पर पूंजी मिल सकेगी। जिससे छोटे उद्योगों के निर्यातकों को दुर्घटना बीमा का प्रीमियम से फ़ायदा होगा। प्रीमियम की प्रक्रियाओं को सरल बनाने के लिए बीमा के दो कागजात निर्यात से पहले और बाद में जारी किए जाएंगे। प्रीमियम संबंधित दावों में 50 प्रतिशत राशि का भुगतान पहले 30 दिन में कर दिया जाएगा।

गोयल ने यह भी बताया है की, इस्पात बाजार पर निगरानी रखने के लिए तीन ऐप लांच की जायेगी। ऐप का संचालन इस्पात मंत्रालय द्वारा किया जाएगा। इससे इस्पात के आयात और अन्य संबंधित जानकारियां तेजी से कारोबारियों को मिल सकेंगी। जिनमें तीन एप शामिल हैं, बौद्धिक अधिकार पंजीकरण ऐप, इस्पात बाजार निगरानी ऐप और निर्यात ऋण बीमा ऐप । इन एप के जरिये कारोबार में सरलता आएगी और कारोबारियों के समय एवं धन राशि की बचत होगी। इससे बाजार में परिस्थितियां प्रतिकूल होने पर शीघ्रता से हस्तक्षेप किया जा सकेगा। आयातित होने वाले इस्पात की जानकारी ऐप पर मौजूद होगी। ऐप में ऑनलाइन पंजीकरण किया जाएगा। इस्पात आयात करने वाली कंपनी को जानकारी अधिक से अधिक 60 दिन पहले और कम से कम से 15 दिन पहले देनी होगी। ऐप 1 नवंबर 2019 से शुरू कर दी जाएगी। यह डिजीटल प्लेटफार्म भौगोलिक संकेतक प्रमाणपत्र के लिए एक बनाया गया है। इसका इस्तेमाल सभी निर्यातक कर सकेंगे और संबंधित वस्तुओं को भौगोलिक संकेत प्रमाणपत्र हासिल कर सकेंगे। दूसरे देश की सहमति मिलती है तो एप को डिजीटल रूप से चीन के व्यापार के लिए इस्तेमाल किया जाएगा।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि गोयल, बौद्धिक अधिकार संरक्षण के लिए सरकार ने व्यवस्था को पारदर्शी और कारोबारियों के अनुकूल बनाया है। सरकार नवाचार को बढ़ावा दे रही है और परंपरागत शिल्प और धरोहर का संरक्षण कर रही है। इससे छोटे उद्योगों को मदद मिलेगी और वे वैश्विक स्तर पर अपनी पहचान बना सकेंगे। उन्होंने बताया कि बौद्धिक संपदा के पंजीकरण के लिए शुल्क में 60 फीसदी से लेकर 100 प्रतिशत तक की कटौती की गई है।