Arthgyani
होम > म्यूच्यूअल फंड > म्यूचुअल फंड उद्योग

एम्फी की रिपोर्ट में एसआईपी अव्वल

एसआईपी में 49,361 करोड़ का निवेश

म्यूचुअल फंड में निवेशकों का भरोसा बरकरार है|एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एम्फी) के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, म्यूचुअल फंड उद्योग ने चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही (अप्रैल-सितंबर) में एसआईपी के जरिए 49,000 करोड़ रुपये से अधिक जुटाए हैं|एम्फी के आंकड़ों से पता चलता है कि  खुदरा निवेशक एसआईपी में निवेश को अपेक्षाकृत अधिक वरियता दे रहे हैं|

बता दें कि इस वर्ष निवेशकों ने विगत वर्ष २०१८ की तुलना में 11 फीसदी अधिक निवेश एसआईपी में किया है|बीते वर्ष अप्रेल से अगस्त के कुल निवेश राशि 44,487 करोड़ रूपये थी जो इस वर्ष बढकर 49,361 करोड़ रूपये हो गयी है |एम्फी के आंकड़ों के मुताबिक इस वर्ष प्रति माह 8000 करोड़ का निवेश एसआईपी में हुआ है|बीते कुछ वर्षों से एसआईपी के निवेश में तेजी बरकरार है|

जोखिम रहित निवेश के लिए  सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान यानी एसआईपी (SIP) को सबसे बेहतर विकल्प माना जाता है। एसआईपी (SIP) के  माध्यम से 1000 रुपए प्रतिमाह का निवेश दस सालों में बढ़कर 2.38 लाख रुपए हो सकता है|ऐसा अच्‍छा रिटर्न कपांउडिंग (Power of Compounding) के चलते मिलता है।ये रिटर्न एसआईपी की सबसे बड़ी विशेषता है|वर्तमान में विभिन्न म्युचुअल कम्पनियों के पास लगभग 2.84 करोड़ sip कहते हैं|बीते वर्ष sip के माध्यम से 92,700 करोड़ रूपये का निवेश किया गया था|इस साल सितंबर के अंत में 44 कंपनियों वाले म्‍युचुअल फंड उद्योग के प्रबंधन के तहत परिसंपत्ति 25.68 लाख करोड़ रुपये रही। एक साल पहले के सितंबर अंत में यह आंकड़ा 24.31 लाख करोड़ रुपये था।