Arthgyani
होम > म्यूच्यूअल फंड > मिड कैप म्युचुअल फंड

कितना सुरक्षित है मिड कैप म्युचुअल फंड में निवेश?

मिड-कैप फंड मिड-साइज़ कंपनियों में निवेश करते हैं

कोई भी निवेशक निवेश से पूर्व जानकारी लेना चाहता है|निवेश से जुडी ये जानकारियाँ ही असल में निवेशित पूँजी का बचाव करती हैं|अतः निवेश के मन में बहुत से प्रश्न रहते हैं|म्युचुअल फंड आज निवेश का एक विश्वसनीय माध्यम बन चुका है|इन फंड्स के विषय में मुख्य जानकारियाँ प्रायः सभी को होती हैं|किंतु म्युचुअल फंड में निवेश की विविधता को देखते हुए पूरी जानकारी रखना हर किसी के लिए मुश्किल है|म्युचुअल फंड की बहुत सी लोकप्रिय श्रेणियों के विषय में निवेशक आज भी नहीं जानते|ऐसी ही एक श्रेणी है मिड कैप म्युचुअल फंड|क्या आप जानते हैं क्या है मिड कैप म्युचुअल फंड?आज हम जानकारी देंगे मिड कैप म्युचुअल फंड की जो आपके लिए निवेश का बेहतरीन विकल्प साबित हो सकती है|

क्या है मिड कैप म्युचुअल फंड?

मिड-कैप फंड मुख्य रूप से  मिड-साइज़ कंपनियों में निवेश करते हैं। मिडकैप फंड्स में रखे गए शेयर ऐसी कंपनियां हैं जो अभी भी विकसित हो रही हैं। ये मध्य आकार के कॉर्पोरेट्स हैं जो बड़े और छोटे कैप शेयरों के बीच स्थित हैं। वे कंपनी के आकार, ग्राहक आधार, राजस्व, टीम आकार, आदि जैसे सभी महत्वपूर्ण मापदंडों पर दो चरम सीमाओं के बीच आती हैं।मार्केट कैप के अनुसार देखें तो जिन कम्पनियों का बाजार में पूंजीकरण  1000 करोड़ से 10000 करोड़ तक होता है, वे सभी कंपनी मिड कैप कम्पनी की श्रेणी में आती हैं|मिड कैप म्युचुअल फंड में ऐसी ही कम्पनियों में निवेश किया जाता है|

मिड कैप म्युचुअल फंड से लाभ:

  1. मिड कैप म्युचुअल फंड में लार्ज कैप फंडों की अपेक्षा अधिक वृद्धि होती है|
  2. अपेक्षाकृत छोटी पूँजी से बड़ा मुनाफा कमाया जा सकता है|
  3. ये लम्बे अवधि के निवेश में अच्छा रिटर्न देते हैं|
  4. ये बाजार के बदलावों में तेजी से प्रतिक्रिया देते हैं|
  5. स्माल कैप की अपेक्षा इनमे अस्थिरता कम होती है|
  6. निवेश की अवधि जितनी अधिक होगी मुनाफा उतना ज्यादा होगा|

मिड कैप म्युचुअल फंड के नुकसान:

  1. इनमें अन्य म्युचुअल फंडों की अपेक्षा जोखिम अधिक होता है|
  2. ये अपेक्षाकृत विकासशील कम्पनियों में निवेश आधारित होता है अतः इनमे अस्थिरता अधिक होती है|
  3. शीघ्र निकासी पर एक्जिट लोड और टैक्स भी देना पड़ता है,जिससे रिटर्न और घट जाता है|
  4. छोटी अवधि के निवेश के लिए उपयुक्त नहीं है|
  5. ग्रोथ और अर्थव्यवस्था को देखते हुए अभी मिडकैप स्कीमों में उठापटक बनी रह सकती है|

टॉप 5 मिडकैप म्युचुअल फंड:

कोटक इमर्जिंग इक्विटी स्कीम :ये दस वर्षों से अधिक समय से  बेहतरीन प्रदर्शन करने वाला मिड कैप फंड है| जो एक दशक से भी अधिक समय से इस क्षेत्र में है।इसने शॉर्ट-टर्म और लॉन्ग-टर्म दोनों अवधि के दौरान अपने बेंचमार्क से बेहतर रिटर्न/ लाभ दिया है। यह अपेक्षाकृत तेज़ी से बढ़ने वाला मिड कैप फंड है जिसने लार्ज कैप कंपनियों में कम और खपत आधारित क्षेत्रों में अपनी ज़्यादातर पूँजी का निवेश किया है|

L & T मिड कैप फंड :ये 15 साल पुराना फंड है,जो अगस्त 2004 में शुरू हुआ था।5 वर्ष की लंबी अवधि के लिए एक सबसे अच्छे मिड कैप फंड में से एक है, इस अवधि में इसने अपने बेंचमार्क से बेहतर रिटर्न/ लाभ दिया है। यह बाज़ार में निवेश करने में में अग्रेसिव स्ट्रैटिज़ी का पालन करता है। यह उन निवेशकों के लिए अच्छा विकल्प है जो मध्यम से उच्च जोखिम लेने को तैयार हैं|

इन्वेस्को इंडिया मिडकैप फंड: ये अप्रैल 2007 से आज तक बेहतरीन प्रदर्शन करने वाला मिड कैप फंड है।ये  1,3 और 5 वर्षों में अपने बेंचमार्क अच्छा रिटर्न देने वाला फंड है। यह बाज़ार में निवेश में अग्रेसिव स्ट्रैटिज़ी का पालन करता है। हालाँकि, अब दोनों ही क्षेत्रों में संतुलन बना कर रखा जाता है।

D.S.P. मिडकैप फंड:ये  नवंबर 2006 में लॉन्च किया गया था। इस फंड ने पिछले 3 और 5 वर्षों में शानदार रिटर्न/ लाभ दिए हैं। यह अपेक्षाकृत स्थिर मिड कैप फंड है जिसने अपने पोर्टफोलियो में लार्ज कैप कंपनियों में ज़्यादा निवेश (26.24%) किया है। लार्ज कैप कंपनियों में निवेश से इस फंड में स्थिरता अधिक है। 

HDFC मिड कैप ऑपर्चुनिटीज़ फंड:ये 12 वर्ष पुराना फंड है जो  अधिक रिटर्न/ लाभ देने के लिए जाना जाता है|इस फंड ने  3 वर्ष और 5 वर्ष की अवधि के दौरान अपने बेंचमार्क से लगभग 2% ज़्यादा रिटर्न/ लाभ दिया है। यह अपेक्षाकृत एक तेजी से बढ़ने वाला मिड कैप फंड है, जो लार्ज कैप कंपनियों में अपने ऐसेट का सिर्फ 3% निवेश करता है।