Arthgyani
होम > न्यूज > कीजिये ये काम टैक्स बचाना होगा आसान

कीजिये ये काम टैक्स बचाना होगा आसान

कर बचाने के 5 उपाय

महंगाई बढ़ने के साथ ही आय में भी क्रमशः वृद्धि होती है|हम सभी आय के साधन बढाने के लिए प्रयासरत रहते हैं|बढ़ती आय के साथ ही हमारी कर सम्बंधित देनदारियों में भी बढ़ोत्तरी होती है|आय के साथ ही टैक्स का बढ़ता बोझ कई बार परशानी का सबब बन जाता है|ऐसे में प्रायः हर नौकरीपेशा व्यक्ति कर बचाने के विकल्प ढूंढता है| ये छूट हमको मिलती है आयकर द्वारा प्रस्तावित नियमों से|आयकर एक्ट 1962 (Income Tax Act, 1962) में कई ऐसे नियम हैं, जिनकी मदद से टैक्स में बचत (Tax Savings) की जा सकती है|आज जानकारी देंगे आयकर के अंतर्गत टैक्स बचाने के विकल्पों की| कर्मचारियों के नजरिये से देखें तो केंद्र सरकार द्वारा संचालित कई निवेश विकल्पों में निवेश के द्वारा हम कर संबधी छूट प्राप्त कर सकते हैं|

कर बचाने के 5 उपाय

  1. PPF: दीर्घकालिक निवेश के लिए पीपीएफ को सबसे बेहतर विकल्प माना जाता है|इसमें मिलने वाले ब्याज की निर्धारित दर 8 फीसदी है| किसी भी बैंक या पोस्ट ऑफिस में PPF अकाउंट खोलने के बाद सालान कम से कम 500 रुपये एवं अधिकतम 1.5 लाख रुपये का निवेश कर सकते हैं|पीपीएफ में निवेश आयकर एक्ट के सेक्शन 80C के तहत छूट युक्त है|
  2. EPF: ईपीएफ में निवेश भी एक अच्छा तरीका है| इसमें निवेशित राशि इन्वेस्टमेंट, रिटर्न, मेच्योरिटी आयकर की धारा के अंतर्गत टैक्स फ्री है|
  3. UPLI प्लान: यूलिप इंश्योरेंस और निवेश दोनों के लाभ एक साथ देता है| ये प्लान बीमा कंपनियों द्वारा संचालित किया जाता है|ULIP दीर्घकालीन निवेश के लिए सबसे अच्छा विकल्प है| यूलिप फंड पांच साल के बाद ही मेच्योर होता है जिससे प्राप्त रकम आती है टैक्स-फ्री होती है|
  4. सुकन्या समृद्धि योजना: सुकन्या समृद्धि योजना को केंद्र सरकार द्वारा बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ स्कीम के तहत लॉन्च किया गया है|इस योजना में 8.5 फीसदी की ब्याज मिलती है| इसमें टैक्स छूट के साथ-साथ मेच्योरिटी पूरी होने के बाद इसकी इनकम टैक्स फ्री होती है|
  5. 80(D) : ये आयकर के अंतर्गत टैक्स बचाने का एक अन्य विकल्प है| जो चिकित्सा संबंधी व्यय को आयकर से मुक्त रखता है|