Arthgyani
होम > न्यूज > नई तकनीक के साथ खेती करनी होगी किसानो को

नई तकनीक के साथ खेती करनी होगी किसानो को

उच्च गुणवत्ता के खाद बीज मिलेंगे किसानो को

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने पिछले दिनों कहा था कि केंद्र सरकार कृषि क्षेत्र मे विकास समन्वयन और गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए  बहुत तेजी से काम कर रही है। सरकार उच्च संसाधनों के द्वारा खेती करने के प्रावधान को लाने की कोशिश मे हैं। उच्च गुणवत्ता के खाद बीज किसानो तक पहुँचाने की कोशिश कर रही हैं ताकि किसान की खेती मे रूचि बढ़े और किसान को अच्छा मुनाफा हो।

ये सारी बातें केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने राष्ट्रपति भवन मे आयोजित केंद्रीय विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षा संस्थानों के कुलधिपतियों एवं निदेशकों के सम्मेलन में बोली थी। कैलाश चौधरी ने कृषि क्षेत्र के बारे में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को अवगत करवाया। सम्मेलन में कृषि क्षेत्र में अनुसंधान, नवाचार एवं उद्यमिता के संवर्धन को लेकर प्रदर्शनी एवं विभिन्न सत्रों में चर्चाएं हुई।

कृषि क्षेत्र मे गुणवत्ता की आवशकयता

कैलाश चौधरी ने कृषि को बढ़ावा देने की बात बोलते हुए कहा कि किसानो को अगर अच्छे बीज अच्छी दवाईयां अच्छा खाद मुहैया कराया जाए तो किसानो का जीवन स्तर सुधर जायेगा और कृषि मे भी बढ़ोतरी होगी। किसानो को खेती करने की नई तकनीक सीखनी होगी। जिससे किसानो को नई तकनीक के साथ खेती करने मे आसानी होगी। नई तकनीक के साथ खेती करने से किसानो को कम लागत मे ज्यादा मुनाफा होगा और ज़मीन की  उर्वरक समता भी बढ़ेगी।

चौधरी ने कहा भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा कृषि विश्वविद्यालयों, राज्य कृषि विश्वविद्यालयों, समतुल्य विश्वविद्यालयों, केन्द्रीय कृषि विश्वविद्यालय और कृषि संकाय वाले केन्द्रीय विश्वविद्यालयों की भागीदारी और प्रयत्नों से कृषि उच्च शिक्षा में गुणवत्ता को बढ़ावा दिया जा रहा है। कैलाश चौधरी राष्ट्रपति भवन में आयोजित सम्मेलन मे जब बोल रहे थे उस वक़्त वहां कई केंद्रीय मंत्री, सांसद एवं अधिकारी भी मौजूद थे।

एक नज़र

  • किसानो को अगर अच्छे बीज अच्छी दवाईयां अच्छा खाद मुहैया कराई जाएंगी
  • किसानो को खेती करने की नई तकनीक सीखनी होगी।
  • नई तकनीक के साथ खेती करने से किसानो को कम लागत मे ज्यादा मुनाफा होगा
  • ज़मीन की  उर्वरक समता भी बढ़ेगी।
  • किसानो का जीवन स्तर सुधरेगा
  • कैलाश चौधरी ने ये बाते राष्ट्रपति भवन मे आयोजित सम्मेलन में बोली थी।
  • उस वक़्त वहां कई केंद्रीय मंत्री, सांसद एवं अधिकारी भी मौजूद थे।