Arthgyani
होम > म्यूच्यूअल फंड > नेट असेट वैल्यू 

NAV – NET ASSET VALUE कुल परिसंपत्ति मूल्य

क्या है नेट असेट वैल्यू , क्यों जानना है ज़रूरी. जानकारी के बिना ग़लत फैसले न हो जाये।

नेट असेट वैल्यू या NAV, इस शब्द से वो लोग परिचित हैं, जो कभी भी शेयर बाजार या म्यूच्यूअल फण्ड की ओर रुख करते हैं या निवेश करना चाहते हैं। लेकिन कई नए लोगों के मन में यह प्रश्न रह जाता है कि आख़िर NAV है क्या। इसकी पूरी जानकारी के बिना कई बार ग़लत फ़ैसले हो जाते हैं।

क्या है NAV – Net Asset Value वो वैल्यू है जिसपे कोई भी म्यूच्यूअल फण्ड की आप एक यूनिट ख़रीदते हैं। ज़्यादा आसान तरीके से अगर हम समझना चाहें तो जैसे स्टॉक के संदर्भ में शेयर का प्राइज़ होता है, ठीक उसी प्रकार म्यूचुअल फंड के संदर्भ में फंड के एक यूनिट की कीमत उसकी NAV में नापी जाती है।

ख़ास बातें

  1. NAV कैलकुलेट करने के लिए उस म्यूच्यूअल फंड के कुल इन्वेस्टमेंट (चाहे वो Stock, Bond या Deposit इत्यादि कुछ भी) की कीमत मे से हर दिन म्यूच्यूअल फंड चलाने के लिएजो खर्च होता है उसे घटा लिया जाता है, और उसके बाद जो पैसा बचता है उसे उस म्यूच्यूअल फंड मे जितनी यूनिट है (जो कि उस म्यूच्यूअल फंड के अलग अलग इन्वेस्टर के पास है) उससे डिवाइड कर दिया जाता है। उसके बाद जो भी वैल्यू होता है वह इस म्यूच्यूअल फण्ड का NAV होता है।
  2. एनएवी फंड की प्रति यूनिट की कुल परिसंपत्ति मूल्य (खर्चे निकाल कर) है| हर दिन के कारोबार के अंत में उस फण्ड कीएसेट मैनेजमेंट कंपनी (एएमसी) द्वारा इसकी गणना की जाती है। किसी भी दिन यदि उस म्यूचुअल फण्ड को समाप्त कर दिया जाए तो उस म्यूचुअल फण्ड में यूनिट धारक को प्रत्येक यूनिट के बदले जो कीमत मिलेगी वही उस यूनिट का उस दिन का एनएवी होता है.कह सकते हैं कि एनएवी किसी भी म्यूचुअल फण्ड की यूनिट की बुक वैल्यू होती है.
  3. अगर स्कीम की अधिकांश प्रतिभूतियों के दाम बढ़ते हैं, तो एनएवी भी बढ़ेगी. अगर घटेंगे तो एनएवी घट जाएगी. यानी एनएवी स्कीम की प्रतिभूतियों की कीमतों के साथ बढ़ती-घटती है. प्रतिभूतियों का मतलब इक्विटी और डेट दोनों तरह के साधनों से है. इसमें इक्विटी शेयर, बॉन्ड, डिबेंचर, कॉमर्शियल पेपर इत्यादि शामिल हैं.
  4. जब आप स्कीम को भुनाते हैं या दूसरे शब्दों में इसे बेचते हैं तो एक्जिट लोड भी लगता है. यह एक तरह की फीस है जो बढ़ी हुई एनएवी पर लगती है.इस दर को भी म्यूच्यूअल फंड के ख़र्च के रूप  में प्रति यूनिट काट लिया जाता है. इस तरह एनएवी म्यूचुअल फंड स्कीम के एसेट का मूल्य है, जिसे प्रति यूनिट देनदारी को घटाकर निकाला जाता है.

ध्यान दें – एनएवी किसी म्युचुअल फंड के यूनिट के ग्रोथ का परिचायक होता है. एक यह धारणा ग़लत है कि कम एनएवी वाला म्यूच्यूअल फंड अच्छा रिटर्न देगा और ज़्यादा एनएवी वाला म्यूच्यूअल फंड कम रिटर्न देगा। किसी भी फंड के एनएवी  से ये तो पता किया जा सकता है कि पास्ट में कैसे रिटर्न दिया है परन्तु  आने वाले वक़्त में वो फंड कैसा रिटर्न देगा ये एनएवी को देख कर तय नहीं कर सकते.