Arthgyani
होम > न्यूज > सार्वजनिक बैंक

खपत और अर्थव्यवस्था बढ़ाने के लिए सार्वजनिक बैंकों ने दिए 2.52 लाख करोड़ का कर्ज

अक्टूबर महीने में सार्वजनिक बैंक ने दिए 2,52,589 करोड़ रुपये कर्ज

त्योहारी सीजन के दौरान मंदी पर काबू लाने के लिए सरकार ने कई निर्णय लिए गए|सभी सेक्टरों ने खरीदी पर छूट, आफर्स, जैसी स्कीमें निकाली थी|इस दौरान सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने अपनी ब्याज दरें भी काफी घटाई थी|खपत बढ़ाने और अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के प्रयास के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सितंबर में बैंकों को कर्ज देने को कहा था।तभी वित्त मंत्री ने, वर्ष 2019 के अक्टूबर महीने में देश भर में 374 जिलों में ऋण मेला आयोजन का भी निर्देश दिया था। जिसमें ग्राहकों को ऋण वितरण कराया गया था|

नए कर्ज हुए शामिल 

पीटीआई की खबर के मुताबिक़, वित्तीय सेवा विभाग ने बताया कि इस दौरान कुल 2,52,589 करोड़ रुपये का कर्ज दिया गया। जिसमें नए कर्ज भी शामिल हुए हैं |जबकि 46,800 करोड़ रुपये नई कार्यशील पूंजी कर्ज के रूप में दिये गये। इस तरह 60 प्रतिशत जितने नये कर्ज हैं|जिसमें 1.05 लाख करोड़ रुपये नए कर्ज दिए गए हैं| कुल मिलाकर 2.52 लाख करोड़ रुपये  जितना कर्ज वितरित किया गया।

सार्वजनिक बैंकों द्वारा कर्ज वितरण के क्षेत्र 

आंकड़ों के अनुसार कंपनियों ने वर्ष 2019 के अक्टूबर महीने में सार्वजनिक बैंकों से 1.22 लाख करोड़ रुपये कर्ज लिये। उसके बाद कृषि विभाग ने कृषि कर्ज में 40,504 करोड़ रुपये दिए गए| वहीं एमएसएमई को 37,210 करोड़ रुपये का कर्ज दिया गया| सार्वजानिक क्षेत्र के बैंकों ने आवास परियोजनाओं को ऋण के रूप में 12,166 करोड़ रुपये दिए|वाहन व्यवहार के क्षेत्र में बैंकों द्वारा ऋण के रूप में 7,058 करोड़ रुपये वितरित किये गए|

वित्त सचिव राजीव कुमार ने बताया कि ‘‘यह बदलाव की कहानी है। बैंकों के पास पर्याप्त पूंजी है और वे किसी भी प्रकार के कर्ज जरूरत को पूरा करने की स्थिति में हैं।’’