Arthgyani
होम > न्यूज > गवर्नमेंट ई-मार्केट (GeM)

गवर्नमेंट ई-मार्केटप्लेस के जरिये मिलेगा ज्यादा कारोबार

गवर्नमेंट ई-मार्केट (GeM) में माल सामान की खरीदी भ्रष्टाचार मुक्त

सरकारी ई-मार्केटप्लेस / GeM (गवर्नमेंट ई-मार्केट) यह ऐसा ऑनलाइन प्लेटफार्म है जहाँ से सस्ते उत्पादों और सेवाओं का लाभ लेना आसान है। जीईएम एक पारदर्शी तथा मुक्त खरीद प्रणाली है। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि GeM के जरिये पांच लाख करोड़ रुपये के कारोबार को पांच साल से कम समय में हासिल हो सकता है। यह पोर्टल बहोत ही तेजी से आगे बढ़ रहा है।

गवर्नमेंट ई-मार्केट (GeM) क्या है?

सरकारी ई-मार्केटप्लेस / GeM (गवर्नमेंट ई-मार्केट) केंद्र सरकार द्वारा शुरू किया गया पोर्टल है। इसके जरिए सभी तरह की खरीदारी करना हो उत्पाद ऑनलाइन उपलब्ध है। खरीददारी प्रक्रिया में मंत्री मंडलों के अधिकारियों और सरकारी अधिकारियों के लिये सेवायें उपलब्ध हैं। सरकार को उम्मीद है कि Gem के जरिए वह करीब 5 लाख करोड़ रुपए का मार्केट प्लेस उपलब्ध किया जा सकता है। जिससे हर साल 40-50 हजार करोड़ रुपए की सेविंग की जा सकेगी।

GeM (गवर्नमेंट ई-मार्केट) पोर्टल पर उपलब्ध सेवाएं 

GeM (गवर्नमेंट ई-मार्केट) पोर्टल के जरिये सस्ते उत्पादों और सेवाएं आसानी से उपलब्ध हैं। इस प्लेटफार्म के द्वारा काफी खरीदी की जा रही है। वाणिज्य मंत्री ने बताया कि जीईएम एक पारदर्शी तथा भ्रष्टाचार मुक्त खरीद प्रणाली है। इस पोर्टल के जरिये केंद्र और राज्य सरकारों के सभी मंत्रालयों और विभागों द्वारा सामान रकम में खरीदी की जाती है। इस तरह से सभी भारतीय नागरिकों के लिए भी यह पोर्टल खुलना चाहिए। पोर्टल पर उपलब्ध उत्पादों और सेवा का लाभ आम नागरिकों को भी मिलना चाहिए। इस प्रक्रिया से GeM पोर्टल के कारोबार में और भी तेजी आएगी।

गवर्नमेंट ई-मार्केटप्लेस (GeM) आयोजन 

एजेंसी की खबर के मुताबिक़ भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) के सहयोग से गवर्नमेंट ई-मार्केटप्लेस (GeM) का दो दिनों के सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस आयोजन में जीईएम के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी तल्‍लीन कुमार और GeM तथा वाणिज्‍य विभाग के अन्‍य वरिष्‍ठ अधिकारी भी उपस्थित थे। इस सार्वजनिक राष्टीय क्रय सम्मेलन में वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री ने यह भी बताया कि दो दिन के विचार-विमर्श के दौरान एक कार्रवाई योग्य कार्य सूची उभर कर सामने आएगी, जिससे भविष्य में जीईएम पोर्टल पर निविदाओं के रूप में कार्य अनुबंधों की सुविधा उपलब्ध होगी।