Arthgyani
होम > टैक्स (कर) > जीएसटी (GST) > GST

टैक्स एलर्ट: सरकार ने बढ़ाई जीएसटी रिटर्न भरने की तारीख

सरकार ने GST और ITR फॉर्म को भी सरल बनाने का निर्णय लिया है|

सरकार साल में एक बार आईटीआर रिटर्न (ITR) फॉर्म में सरकार को आमदनी, खर्च, निवेश का ब्यौरा देना होता है जिसे आयकर रिटर्न /इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) कहते हैं| देश के कानून के हिसाब से आयकर रिटर्न (ITR) हर व्यवसाय या व्यक्ति को भरना चाहिए| आयकर रिटर्न के द्वारा अपनी आमदनी पर हुए खर्च का हिसाब रखते हैं| केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर एवं सीमा शुल्क बोर्ड (CBIC) ने जानकारी देते हुए बताया कि करदाताओं को वित्त वर्ष 2017-18 और 2018-19 के लिए जीएसटी वार्षिक रिटर्न भरने की तारीख को बढ़ाकर 31 दिसंबर 2019 और 31 मार्च 2020 कर दिया है। इसी तरह मिलान ब्योरा जमा करने की तारीख को भी बढ़ाया गया है। सरकार ने GST और ITR फॉर्म को सरल बनाने का भी फैसला लिया है| दोनों फार्मों के कई हिस्सों को वैकल्पिक रूप से बनाया जाएगा|

ध्यान दें, सरकार ने 2017-18 का जीएसटीआर -9 (वार्षिक रिटर्न) फॉर्म और जीएसटीआर -9 सी (मिलान ब्योरा) फार्म भरने की तारीख को बढ़ाकर 31 दिसंबर 2019 किया है| वर्ष 2018-19 का जीएसटीआर -9 फॉर्म और जीएसटीआर -9 सी फार्म भरने की तारीख को बढ़ाकर मार्च 2020 करने का फैसला किया है।

रिटर्न फाइल करने की अंतिम तारीख थी 30 नवंबर 2019

वहीं वित्त वर्ष 2017-18 के लिए ये दो फार्म दाखिल करने की अंतिम तारीख 30 नवंबर 2019 थी जबकि 2018-19 के लिए ये दोनों फार्म जमा करने की तारीख 31 दिसंबर 2019 थी। सीबीआईसी ने वार्षिक रिटर्न और मिलान ब्योरे को सरल करने से संबंधित संशोधनों को भी अधिसूचित किया है। किए गए इन बदलावों और आखिरी तारीख बढ़ाने से जीएसटी करदाताओं को समय पर वार्षिक रिटर्न और मिलान ब्योरा दाखिल करने में आसानी होगी।

केंद्र सरकार हमारी आमदनी पर टैक्स वसूलती है, जिसे आयकर या इनकम टैक्स (Income Tax) कहते हैं| आयकर (Income Tax) से होने वाली कमाई को सरकार अपनी गतिविधियों और जनता को सुविधा और सेवाएं देने के लिए इस्तेमाल करती है|

केंद्र सरकार को रिटर्न फाइल के हिसाब से उस वित्त वर्ष में अपनी नौकरी, कारोबार या पेशे से कितनी रकम कमाई है इसका ब्यौरा देती है|इसके साथ ही इनकम टैक्स पर आप सरकार द्वारा निर्धारित टैक्स बचत के विकल्प में निवेश करने की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं|साथ ही जरूरी चीजों पर खर्च करने और एडवांस टैक्स चुकाने की भी जानकारी देते हैं|