Arthgyani
होम > न्यूज > एयर इंडिया

तेल विपणन कंपनियों ने एयर इंडिया को दी अंतिम चेतावनी

एयर इंडिया का बकाया ईंधन बिल 5,000 करोड़ रुपये

बड़े वित्तीय संकट से जूझ रही एयर इंडिया की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही| सरकारी तेल कंपनियों ने एयर इंडिया को एक अंतिम चेतावनी जारी करते हुए पत्र लिखा है कि 18 अक्टूबर तक मासिक एकमुश्त भुगतान न होने की स्थिति में छह प्रमुख घरेलू हवाई अड्डों पर ईंधन की आपूर्ति बंद कर देंगे। समाचार एजेंसी पीटीआई के पास तेल विपणन कंपनियों (OMCs) द्वारा राष्ट्रीय वाहक को भेजी गयी इस विज्ञप्ति के आधार पर प्रसारित खबर के अनुसार एयर इंडिया परेशानियों से घिर गया है|

विदित हो कि इससे पहले भी  22 अगस्त को इंडियन ऑयल कॉर्प, भारत पेट्रोलियम कॉर्प लिमिटेड (BPCL) और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्प लिमिटेड (HPCL) ने पूरा भुगतान नहीं होने की वजह से कोच्चि, मोहाली, पुणे, पटना, रांची और विजाग के छह हवाई अड्डों पर एयर इंडिया को ईंधन की आपूर्ति रोक दी थी।उस समय एयर इंडिया ने पहले एकमुश्त 60 करोड़ रुपए का भुगतान करके स्थिति को नियंत्रित किया था|

एयर इंडिया को गुरुवार को भेजे गए एक पत्र में, तीन तेल सार्वजनिक उपक्रमों – इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (IOCL), भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (BPCL) और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HPCL) ने कहा – वादे के मुताबिक मासिक एकमुश्त भुगतान नहीं होने के कारण बकाया कम नहीं हुआ है।”इसके पूर्व अगस्त में, ईंधन खुदरा विक्रेताओं ने बताया था कि एयर इंडिया का बकाया ईंधन बिल 5,000 करोड़ रुपये हो गया था| जिसका लगभग आठ महीने से भुगतान नहीं किया गया था।

बेचने की कोशिशें भी नाकाम हो चुकी हैं:

मोदी सरकार ने इसी साल मार्च में कंपनी की 76 फीसदी हिस्सेदारी बेचने का फैसला किया था|किंतु निवेश संबंधी तय की गई कड़ी शर्तों को देखते हुए कंपनियों ने इससे किनारा कर लिया था|शर्तों के मुताबिक  निवेश करने वाली कंपनी को एयर इंडिया पर चढ़े कुल 48700 करोड़ रुपये के कर्ज में से 33390 करोड़ रुपये का कर्ज चुकाना था|हालांकि विमानन मामलों के जानकारों का कहना है कि एयर इंडिया की संपत्तियों को परखा जाए तो कर्ज की यह रकम मामूली है|इसके बावजूद भी निवेशकों ने एयर इंडिया में रूचि नहीं दिखाई थी|