Arthgyani
होम > न्यूज > अर्थव्यवस्था समाचार > दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था भारत : सीईबीआर

दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था भारत : सीईबीआर

भारत 2026 तक पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बन सकता है

भारत 2019 में ब्रिटेन और फ्रांस दोनों को निर्णायक तौर पर पछाड़कर दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है|अब भारत के 2026 में जर्मनी को पीछे छोड़कर चौथी तथा 2034 में जापान को पछाड़कर तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाने का अनुमान है| ये कहना है ब्रिटेन स्थित सेंटर फॉर इकोनॉमिक्स एंड बिजनेस रिसर्च (सीईबीआर) की रिपोर्ट का| इस रिपोर्ट को वर्ल्ड इकोनॉमिक लीग टेबल 2020 के नाम से प्रकाशित किया गया है|

मोदी सरकार को राहत:

काबिले गौर है कि विश्व कि विभिन्न रेटिंग एजेंसियों ने भारत की जीडीपी गिरावट का अनुमान व्यक्त किया है|भारतीय रिजर्व बैंक भी ऐसी ही आशंका को प्रकट कर चुका है| वैश्विक मंदी और आर्थिक सुस्ती से देश के अर्थव्यवस्था को बाहर निकालना मोदी सरकार की प्राथमिकताओं में शामिल है|वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण इस दिशा में विभिन्न प्रयास करती नजर आ रही हैं| ऐसे वक्त में आयी  ये रिपोर्ट सरकार को थोड़ी राहत अवश्य देगी|

5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था:

ब्रिटेन स्थित सेंटर फॉर इकोनॉमिक्स एंड बिजनेस रिसर्च (सीईबीआर) की रिपोर्ट ‘वर्ल्ड इकोनॉमिक लीग टेबल 2020’ के अनुसार, भारत 2026 तक पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बन सकता है|हालांकि,भारत सरकार ने देश को 2024 तक पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य तय किया है|बता दें प्रधानमंत्री विभिन्न सार्वजनिक मंचों से  भारतीय अर्थव्यवस्था को 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने की बात कह चुके हैं|

15 साल तक तीसरे स्थान के लिये प्रतिस्पर्धा:

सीईबीआर की रिपोर्ट के अनुसार,भारत 2026 में जर्मनी को पछाड़कर विश्व की चौथी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था और वर्ष 2034 में जापान को पीछे छोड़कर विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन सकता है| सीईबीआर ने कहा कि जापान, जर्मनी और भारत में अगले 15 साल तक तीसरे स्थान के लिये प्रतिस्पर्धा चलेगी| रिपोर्ट के मुताबिक ‘भारत पांच हजार अरब डॉलर की जीडीपी 2026 में हासिल कर लेगा लेकिन सरकार के तय लक्ष्य के मुकाबले दो साल बाद|’