Arthgyani
होम > न्यूज > अर्थव्यवस्था समाचार > भारतीय रिजर्व बैंक (RBI)

नहीं छपेंगे 2000 के नोट: RBI

चालू वित्त वर्ष 2019 में यह घटकर 3,291 मिलियन रह गया

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) आरटीआई को बताया कि, 2,000 रुपये के नोटों की छपाई बंद कर दी है| इस वर्ष के दौरान आरबीआई ने 2,000 रुपये के नोट की छपाई नहीं की है| वहीं आरबीआई से प्राप्त डेटा में 2,000 के नोटों सर्कुलेशन घटा है| जहाँ मार्च 2018 के वित्त वर्ष में 3,363 मिलियन हाई-वैल्यू नोट सर्कुलेशन था, जिसका कुल सर्कुलेशन वैल्यूम 3.3 प्रतिशत रहा| वैल्यू टर्म में यह 37.3% है| वहीं चालू वित्त वर्ष 2019 में यह घटकर 3,291 मिलियन रह गया है, जिसका कुल मनी सर्कुलेशन का वोल्यूम 3% और 31.2% वैल्यू है|

बता दें, एक्सपर्ट्स ने 2000 रुपये के नोट कम छापने की वजह में बताया कि, हाई वैल्यू नोटों को हटाने का मकसद काले धन के नियंत्रण पर रोक लगाना है| हाई वैल्यू के नोटों के होने से काले धन का लेनदेन रखना मुश्किल हो जाता है|

दरअसल, पिछले वर्षों के दौरान 2000 रुपये के नोटों का चलन कम हो गया। 2018-19 में 2000 के नोटों की संख्या 336 करोड़ से घटकर 329 करोड़ पीस रह गई। 2000 रुपये के नोटों के चलन की संख्या में 7.2 करोड़ की कमी दिखाई दी। वहीं, 500 रुपये के नोटो की संख्या वित्त वर्ष 2017-18 के 1546 करोड़ थी| इसी मुकाबले 2018-19 से बढ़कर 2151 करोड़ हुई|

बता दें, नवंबर 2016 में मोदी सरकार ने काला धन (ब्लैक मनी) पर लगाम लगाने और फेक करेंसी के सर्कुलेशन को हटाने के लिए 500 रुपये और 1,000 के नोट पर बैन लगाया गया| उसके बाद से 2,000 रुपये के नए नोट आए थे| वित्त वर्ष 2017 में 500 और 200 रुपये के नए डिजाइन के नोट जारी किए गए।