Arthgyani
होम > न्यूज > नामी कम्पनियां रहेंगी शीर्ष पर, मिलेगा अच्छा मुनाफा

नामी कम्पनियां रहेंगी शीर्ष पर, मिलेगा अच्छा मुनाफा

शेयर बाजार ने बनाया अच्छा माहौल

शेयर बाजार का माहौल अच्छा नजर आ रहा है। वित्त वर्ष 2019-20 की तीसरी तिमाही में देश की टॉप 10 कंपनियों का मुनाफा औसतन 23 फीसदी तक बढ़ सकता है। इसमें वित्तीय सेक्टर के अच्छा प्रदर्शन और टैक्स दरों में गिरावट की भूमिका सबसे अहम होने वाली है। एक साल पहले की तुलना में कमाई में 14 फीसदी की वृद्धि होने का अनुमान है। सरकार ने सितंबर 2019 में अर्थव्यवस्था को छह साल के निचले स्तर से उबारने के लिए कॉर्पोरेट टैक्स दरों को कम किया था। इससे कंपनियो को करोड़ों की राहत मिली थी।

इन टॉप वित्तीय कंपनियों में एचडीएफसी बैंक और आईसीआईसीआई बैंक शामिल हैं, जिनका मुनाफा अक्टूबर से दिसंबर के दौरान करीब दोगुना तक बढ़ने की उम्मीद जताई जा रही है। एक साल पहले यह 13 फीसदी की दर से बढ़ा था।आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज के रिसर्च प्रमुख पंकज पांडे ने कहा, बैंकिंग और वित्त सेवा सेक्टर का प्रदर्शन ठोस होने की उम्मीद है। इनके दबाव वाले एसेट्स की समाधान योजनाओं का लाभ इन्हें मिलता नजर आ रहा है। साथ ही कॉर्पोरेट टैक्स दरों में गिरावट से भी मुनाफा क्षमता बेहतर होगी।

आंकड़ों के अनुसार

रिफिनिटिव के आंकड़ों के अनुसार, रिलायंस इंडस्ट्रीज 31 दिंसबर को खत्म होने वाली तिमाही में 20 फीसदी से अधिक की ग्रोथ दर्ज कर सकती है। यह चार सालों में इसका सबसे अच्छा प्रदर्शन होगा। आर्थिक कमजोरी के दौर में निवेशकों ने चुनिंदा दिग्गज शेयरों पर ही भरोसा जताया है। हाल ही में भारत की आर्थिक विकास दर के अनुमानों में कटौती की गई है, जो बीते दशक में इसकी सबसे खराब ग्रोथ दर्शाता है। देश में कृषि और निर्माण से जुड़े काम की रफ्तार खासी सुस्त हुई है। उम्मीद है कि आगामी बजट में सरकार टैक्स में राहत दे सकती है और इंफ्रास्ट्रक्चर पर खर्च बढ़ा सकती है।

इस दिसंबर तिमाही में निफ्टी 50 कंपनियों मुनाफा औसतन 10.7 फीसदी की दर से बढ़ने का अनुमान है। मगर एक साल पहले यह 11.8 फीसदी की दर से बढ़ा था। बीते साल निफ्टी ने 12 फीसदी की तेजी दिखाई थी, जबकि निफ्टी मिडकैप 100 और स्मॉलकैप इंडेक्स क्रमश: 4.3 फीसदी और 9.5 फीसदी टूटे है. शुक्रवार को नतीजे पेश करने वाली आईटी कंपनी इंफोसिस का नेट प्रॉफिट बीती तिमाही में 23.7 फीसदी बढ़कर 4,466 करोड़ रुपये रहा, जो बाजार की उम्मीद से बेहतर रहा। कंपनी ने व्हिसलब्लोअर की शिकायत में कोई दम नहीं पाया। बीते साल इस तिमाही में कंपनी का मुनाफा 29.6 फीसदी घटा था।