Arthgyani
होम > न्यूज > आयुष्मान भारत योजना

निजी अस्पतालों को इन्सेंटिव देने का केंद्र सरकार ने लिया फैसला

योजना के लिए करीब 6,200 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।

ग़रीबों के मुफ़्त इलाज़ के लिए सितंबर 2018 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने “आयुष्मान भारत योजना” की शुरुवात की थी। लेकिन जागरूकता के आभाव में इस योजना का समुचित लाभ लोगों तक नहीं पहुँच रहा। इसी के मद्देनज़र प्रोग्राम में तेजी लाने के लिए सरकार ने निजी अस्पतालों को इन्सेंटिव देने का फैसला किया है, ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक इस योजना का लाभ पहुँच सके। नैशनल हेल्थ अथॉरिटी (NHA) के मुताबिक, इस प्रोग्राम के तहत करीब 20 हज़ार अस्पताल रजिस्टर्ड हैं, जिनमें से 60 फीसदी प्राइवेट हैं। ऐसे में इनकी भागीदारी बढ़ाने से इस प्रोग्राम के ज़्यादा सफल होने की संभावना है। इस वित्त वर्ष में इस योजना के लिए करीब 6,200 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।  50 करोड़ लोगों को इंश्योर्ड करने का लक्ष्य रखा गया है, जिनमें अब तक केवल 10 करोड़ लोग ही कवर हो पाए हैं।

योजना की प्रमुख बातें

  • आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत सितंबर 2018 में हुई थी।
  • प्रोग्राम में तेजी लाने के लिए सरकार ने निजी अस्पतालों को इन्सेंटिव देने का फैसला किया है।
  • 10 करोड़ परिवारों को कवर करने का लक्ष्य है।
  • 6200 करोड़ का बजट आवंटित किया गया।
  • योजना का लाभ पूरे देश में कहीं भी उठाया जा सकता है।
  • इस प्रोग्राम के तहत करीब 20 हजार अस्पताल रजिस्टर्ड हैं, जिनमें से 60 फीसदी प्राइवेट हैं।
  • इस योजना को मोदी केयर के नाम से ज़्यादा ख्याति मिली।
  • मोदीकेयर प्रोग्राम को कैशलेस और पेपरलेस बनाया गया है।

इस योजना के तहत प्रधानमंत्री मोदी ने देश के ग़रीब लोगों को 5 लाख रुपये तक मेडिकल इंश्योरेंस दिया है ताकि भारत ज़्यादा स्वस्थ हो। इस प्रोगाम में करीब 10 करोड़ परिवारों के 50 करोड़ लोगों को सुरक्षित किया जाएगा। अब तक इस प्रोग्राम के तहत मात्र 10 करोड़ लोगों को ही लाभार्थी बनाया गया है। इनमें 8 करोड़ परिवार ग्रामीण इलाकों से और 2 करोड़ परिवार शहरी क्षेत्रों से हैं। करीब 60 लाख लोगों ने इस योजना का लाभ उठाया है।

इस प्रोगाम में लाभार्थियों की उम्र को लेकर कोई पाबंदी नहीं है। हालांकि लड़कियों, महिलाओं और बुजुर्गों को तरजीह दी जाएगी। इस योजना के तहत पहले से मौजूद बीमारी भी कवर होती है। इसके अलावा कैंसर, हार्ट ऑपरेशन समेत अन्य गंभीर बीमारियां भी इसमें शामिल होंगी।