Arthgyani
होम > व्यक्तिगत निवेश > बचत होगी आसान अगर आप करेंगे ये काम

बचत होगी आसान अगर आप करेंगे ये काम

आज हम कुछ ऐसे टिप्स बताने जा रहें हैं जिससे आप अपने सीमित सैलरी में भी अच्छी बचत कर सकते हैं

आज के समय में जब महंगाई रोज के रोज नई ऊंचाई की तरफ बढ़ रहा है, वैसी परिस्थिति में एक सीमित कमाई वाले सैलरीपेशी के पास बहुत बड़ी पेशोपेश है कि वह अपना गुजारा कैसे करें| आपकी सैलरी भले ही हर साल 6% की दर से बढे या न बढे पर महंगाई हर साल 6% के हिसाब से जरुर बढ़ रही है| आज हम इसी समस्या को ध्यान में रखकर कुछ ऐसे मशवरे ले कर आए हैं जिससे आप उसी सीमित सैलरी के साथ न सिर्फ अच्छे से जीवन यापन कर पाएंगे बल्कि साथ ही बचत की मात्रा में भी वृद्धि कर सकते हैं| कहा भी तो गया है कि आज की बचत आपके कल के सुरक्षित और खुशहाल जीवन का आधार बनेगा| तो चलिए जानतें हैं कुछ ऐसे टिप्स जिससे आप अपने सैलरी की मात्रा बढाए बिना भी बचत को बढ़ा सकते हैं, वो भी कोई समझौता किए बिना:

मासिक खर्च की करें तैयारी

एक सैलरी पेशी को सीमित आय में पूरे महीने का खर्च चलाना होता है| इस लिए उन्हें अपने सैलरी आने से एक दिन पूर्व सैलरी के अनुसार पूरे महीने के खर्चों को के लिए एक डायरी मेन्टेन करना चाहिए| आज के डिजिटल समय में आपके इस मुश्किल कार्य को आसान करने के लिए कई सारे मोबाइल ऐप भी आते हैं, जिसके सहयोग से आप यह कार्य बहुत आसानी से कर सकते हैं| हां इस बात का ध्यान जरुर रखें की सभी खर्चों के हिसाब-किताब के बाद बचत के लिए एक धनराशी जरुर हो| सामान्यतः अगर आप अपनी सैलरी का 25% या उससे अधिक की बचत कर पातें हैं तो इसे एक अच्छी बचत मानी जाएगी|

क्रेडिट कार्ड से रखे दूरी

आज के समय में अगर आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा है तो बहुत सारे क्रेडिट कार्ड कंपनियों से रोज कार्ड लेने के लिए फ़ोन कॉल्स आते हैं| विशेषतः अगर आप नियमित वेतनभोगी हैं तब तो क्रेडिट कार्ड कंपनियां आपको टारगेट बना लेती हैं, क्योंकि आपसे धनवापसी को वे गारंटेड मानती हैं| मगर क्रेडिट कार्ड के साथ समस्या यह है कि यह आपके बचत की आदत को बिगाड़ देता हैं, क्योंकि हर महीने की सैलरी आने से पूर्व आप क्रेडिट कार्ड से काफी खर्च कर चुकें होते हैं और क्रेडिट कार्ड का बिल भरने के बाद आपके पास सीमित धन ही बच जाता है| क्रेडिट कार्ड मानसिक तौर से आपको कार्ड के व्यय सीमा को अपना धन होने का अहसास दिलाता है जोकि आपका धन न होकर आप पर कार्ड कंपनी का उधार होता है| हर महीने के सैलरी के साथ आप क्रेडिट कार्ड का बिल भरते हैं| धीरे-धीरे यह एक सिलसिला बन जाता है| आप क्रेडिट कार्ड के मकड़जाल में आप फंस जाते हैं, और अगर आपने इससे निकलने के लिए न्यूनतम पेमेंट का विकल्प चुना तो आप पर क्रेडिट कार्ड के भारी भरकम व्याज का बोझ आ जाएगा| इसलिए जहां तक हो सके एक सैलरीपेशी के लिए क्रेडिट कार्ड से दूरी रखना ही बेहतर होता है|

शॉपिंग पर जाने से पहले बनाएं लिस्ट

अक्सर हम शॉपिंग से आने के बाद यह अफ़सोस करते हैं की इस वस्तु की खरीद हमने बिना जरुरत के कर ली, जबकि इसकी कोई उपयोगता ही नहीं है| यह इस लिए होता है क्योंकि आज के मॉल संस्कृति में हमें ज्यादा से ज्यादा उपभोग के लिए प्रेरित किया जाता है और जब हम शॉपिंग कर रहें होते हैं तो सेल्समैन की चिकनी-चुपड़ी बातों में आकर ऐसी वस्तुओं की खरीददारी कर लेते हैं जो हमारे तात्कालिक जरुरत की होती ही नहीं है| ऐसे बेमतलब की खरीददारी से बचने का एक सरल उपाय है कि आप शॉपिंग पर निकलने से पूर्व अपनी जरूरत की चीजों की एक लिस्ट बना कर निकलें और उसपर डंटे रहें| हां अपने शॉपिंग से इतर खर्चों जैसे फ़ूड कोर्ट के लिए भी कुछ पॉकेट खर्च जरुर रखें| क्योंकि शॉपिंग के साथ मस्ती भी जरुरी है|

राशन की चीजों की ऑनलाइन खरीद

राशन एक ऐसी जरुरत है जो हर घर के लिए आवश्यक है| मगर रोज-रोज की राशन की खरीद के बजाए पूरे महीने के अनुमान और प्लानिंग कर एक साथ खरीददारी करना बेहतर विकल्प साबित हो सकता है| इसके लिए ऑनलाइन ई-कॉमर्स ऐप का इस्तेमाल भी किफायती साबित हो सकता है| चूंकि ऑनलाइन राशन बेचने वाले ई-कॉमर्स ऐप को दुकानों पर खर्च करने की आवश्यकता नहीं होती है और वे ज्यादा मात्रा में खरीदी कर सामानों को अपने बड़े-बड़े गोदामों में स्टॉक करके रखते हैं, इसलिए आपकी ऑनलाइन खरीददारी आसान होने के साथ ही आपके पड़ोस के राशन दूकान से काफ़ी सस्ता और बचत का विकल्प साबित हो सकता है|

इनश्योरेंस छोड़ कर लें एक टर्म प्लान

आज के समय में इनश्योरेंस प्लान्स को सेविंग और टैक्स सेविंग के रूप में इस्तेमाल करना प्रासंगिक प्रतीत नहीं होता| इसके बजाय इनश्योरेंस और सेविंग को अलग-अलग रखना बेस्ट है| इनश्योरेंस के लिए किसी टर्म प्लान का चयन कर लें जो आपको कम प्रीमियम में अधिक रकम का इनश्योरेंस प्रदान करता है| मगर हां टर्म इनश्योरेंस में परिपक्त्व्ता पर कोई धन वापसी नहीं होती है तो इसकी क्षतिपूर्ति के लिए आप किसी लंबी अवधि के सेविंग स्कीम जैसे SIP, म्यूच्यूअल फंड आदि का चयन कर सकते हैं| ऐसे ही किसी मेडिकल टर्म इनश्योरेंस का चयन कर आप आकस्मिक मेडिकल खर्चों से खुद के सेविंग्स को बचा सकते हैं|

सरकारी बांड में निवेश है अच्छा विकल्प

आज के समय में जब कई बैंक दीवालियां हो रहे हैं, वैसे में आप अपने बैंक में जमा धन को सुरक्षित महसूस नहीं करते हैं और उसपर अगर आपको यह बताया जाए कि बैंक के दिवालिया होने की स्थिति में आपको एक लाख से अधिक की धन वापसी नहीं होगी, भले ही आपने कितना भी धन बैंक में जमा कर रखा हो, तब अपने मेहनत से बचाए धन को लेकर बहुत चिंता होती है| ऐसे विषम परिस्थिति में कोई अगर आपको गारंटेड धन वापसी का विकल्प दे तो! ऐसे ही स्कीम्स में से एक है सरकारी बांड| सरकारी बांड लंबे समय के निवेश के लिए एक सुरक्षित विकल्प हैं जो सुरक्षा के साथ अच्छा रिटर्न भी देते हैं| इसके लिए आप पोस्ट ऑफिस से नेशनल सेविंग ​सर्टिफिकेट (NSC) की भी खरीद कर सकते हैं| ये बांड और NSC आपको इनकम टैक्स में छूट भी प्रदान करते हैं|

मोबाइल के सालाना रिचार्ज का चुने प्लान

भारत में आज लगभग हर हाथ में मोबाइल है| विगत दिनों में लगभग सभी टेलिकॉम कंपनियों ने अपनी दरों में 50% का इजाफा किया है और भविष्य में इसमें थोड़ी और वृद्धि होने का अंदेशा है| इस बढ़ते महंगाई को सीमित करने के लिए आप टेलिकॉम कंपनियों द्वारा ऑफर में प्रदान की जा रही सालाना रिचार्ज प्लान्स को चुन सकते हैं| उधारण के लिए रिलायंस जिओ (JIO) हर 84 दिनों के लिए 600 रूपए चार्ज कर रहा है, वहीं उसकी एक रिचार्ज स्कीम है जिसमें 365 दिनों के प्रीपेड रिचार्ज के लिए 2000 रूपए का ऑफर प्रदान कर रहा है| अगर आप इस स्कीम का चयन करते हैं तो आपको लगभग 30% की बचत होगी जो आपके बैंक के सेविंग अकाउंट में रखे धन से कहीं ज्यादा होगी|

तो अगर आप भी अगर बचत करना चाहते हैं तो ऊपर बताए गए तरीकों को अपनाएं और सरल व खुशहाल जीवन बिताएं|