Arthgyani
होम > व्यक्तिगत निवेश > PPF

पब्लिक प्रोवीडेंट फंड के नए नियम – जमा रकम अब कुर्क नहीं होगी

केंद्र सरकार द्वारा पब्लिक प्रोवीडेंट फंड के नियमों में हुए कई सुधार और बदलाव।

केंद्र सरकार ने पब्लिक प्रोवीडेंट फंड (पीपीएफ) के नियमों में एक बड़ा बदलाव करते हुए नए नियमों को अधिसूचित किया है। नए नियम के तहत पीपीएफ खाते में जमा राशि को अब कुर्क नहीं किया जा सकेगा। इस नए नियम को “पब्लिक प्रोवीडेंट फंड स्‍कीम, 2019” कहा गया है जिसे तत्‍काल प्रभाव से लागू कर दिया गया है।

नए नियम पब्लिक प्रोवीडेंट फंड स्‍कीम, 2019 के तहत अगर पीपीएफ का खाताधारक कोई कर्ज डिफॉल्ट करता है तो उसके पीपीएफ अकाउंट में जमा रकम को किसी कोर्ट के आदेश या डिक्री के तहत कुर्क नहीं किया जा सकता है।

पब्लिक प्रोवीडेंट फंड स्‍कीम 2019

इस नए नियम के तहत पीपीएफ खाते में जमा राशि को अब कुर्क नहीं किया जा सकेगा। इसके अलावा भी केंद्र सरकार ने पब्लिक प्रोवीडेंट फंड के नियमों में कई अन्य सुधार और बदलाव किये हैं। अभी PPF में 15 साल का लॉक इन पीरियड होता है लेकिन नए नियमों में पीपीएफ खाते में परिपक्‍वता अवधि के बाद भी राशि जमा करने का प्रावधान किया गया है। खाता धारक खाता खोलने की दिनांक से 15 साल की परिपक्‍वता अवधि समाप्‍त होने के बाद भी अपने खाते में  5 साल तक और राशि को जमा करना जारी रख सकता है।  इसके अलावा PPF संबंधी निवेश 15 साल तक के लिए लॉक हो जाने के बावजूद, इसमें वित्तीय संकट के दौरान समय-पूर्व निकासी की सुविधा दी गई है  जिससे खाता खोलने के 5 साल बाद खाते से राशि को निकालने की अनुमति दी गई है। खाता धारक चौथे साल में अपने खाते से 50 प्रतिशत तक की राशि भी निकाल सकेगा।

PPF की विशेषता और लाभ

कोई भी व्‍यक्ति फॉर्म-1 के जरिये पीपीएफ खाता खोल सकता है। अव्‍यस्‍क या विकृत मस्तिष्‍क वाले व्‍यक्ति के लिए अभिभावक के रूप में भी पीपीएफ खाता खोला जा सकता है। पीपीएफ खाते में एक वित्त वर्ष के दौरान न्‍यूनतम 500 रुपए और अधिकतम 1.5 लाख रुपए जमा किए जा सकते हैं। पीपीएफ खाते पर सरकार द्वारा तय की जाने वाली दर के हिसाब से ब्‍याज दिया जाता है। पीपीएफ खाते में राशि जमा करने पर टैक्‍स कटौती का लाभ भी मिलता है। PPF धारक को किसी फाइनेंशिअल जरूरत को पूरा करने के लिए उसके PPF इन्वेस्टमेंट के बदले लोन भी मिल सकता है। सरकार हर तीन महीने पर PPF का इंटरेस्ट रेट रिव्यू करती है और वर्तमान में इस पर 7.9% प्रति वर्ष की दर से इंटरेस्ट मिल रहा है।