Arthgyani
होम > न्यूज > अर्थव्यवस्था समाचार > पीएम-किसान पेंशन योजना

पीएम-किसान पेंशन योजना से जुडे 14 लाख किसान

14 लाख से अधिक किसानों ने अपना नामांकन कराया

पीएम-किसान पेंशन योजना में पहले महीने में 14 लाख से अधिक किसानों ने अपना नामांकन कराया।बता दे कि पीएम-किसान पेंशन योजना के अंतरगत पंजीकरण की शुरुआत 9 अगस्त से हुई थी।इन 14 लाख किसानों में से सर्वाधिक  28 प्रतिशत पंजीकरण हरियाणा में दर्ज किए गए हैं। सरकार इस वित्तीय वर्ष में 1 करोड़ से अधिक किसानों को कवर करने का लक्ष्य बना रही है। यह योजना अगले तीन वर्षों में 18-40 वर्ष के आयु समूह में 5 करोड़ छोटे और सीमांत किसानों को जोड्ने का लक्ष्य रखा है।

फाइनेंशियल एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार,शुरुआती 7.5 लाख नामांकन में 35 फीसदी महिलाएं भी इस योजना से जुड चुकी हैं।सरकार ने 9 अगस्त को प्रधान मंत्री किसान- मान धन योजना (पीएम-केएमवाई) की शुरुआत की थी।जिसके लिये सरकार को अतिरिक्त 10,700 करोड़ रुपये की व्य्व्स्था करनी होगी।इस पेंशन योजना से 60 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद लाभार्थियों को 3,000 रुपये प्रति माह की पेंशन दी जायेगी। ये ऐलान 31 मई को मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल की पहली कैबिनेट बैठक में किये गये थे।

इस योजना के अनुसार सभी छोटे और सीमांत किसान जो वर्तमान में 18 से 40 वर्ष की आयुवर्ग के बीच हैं लाभ प्राप्त करने के पात्र हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 12 सितंबर को इस योजना की औप्चारिक शुरुआत की थी।हालांकि, इस योजना के अंतरगत  झारखंड, ओडिशा, हरियाणा, बिहार, उत्तर प्रदेश और छत्तीसगढ़ जैसे छह हिंदी बोलने वाले राज्यों में ही 1 लाख से अधिक पंजीकरण हुए हैं।स्वैच्छिक योजना के लिए नामांकन देश भर में स्थित कॉमन सर्विस सेंटर (CSCs) के माध्यम से किया जा रहा है।योजना के तहत पंजीकरण के लिए कोई शुल्क नहीं लिया जाता है।केंद्र प्रत्येक नामांकन के लिए सीएससी को 30 रुपये का भुगतान करता है।