Arthgyani
होम > न्यूज > पेट्रोल डीज़ल

पेट्रोल डीज़ल के दामों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी

अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में पिछले दिनों कच्चे तेल के दाम में हुई वृद्धि

आज लगातार सातवें दिन मंगलवार को पेट्रोल के भाव में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी है। अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में पिछले दिनों कच्चे तेल के दाम में हुई वृद्धि ने इस सिलसिले को हवा दी है। क़ीमतों के इस उछाल से तेल विपणन कंपनियों ने देश में भी पेट्रोल के क़ीमतों में वृद्धि की है। देश की राजधानी दिल्ली और कोलकाता में पेट्रोल 15 पैसे, गुरुग्राम में 12 पैसे वहीँ मुंबई, चेन्नई, जयपुर में पेट्रोल 16 पैसे प्रति लीटर मंहगा हो गया है।

इस बीच, लगातार छह दिनों की स्थिरता के बाद डीज़ल की क़ीमत भी बढ़ गई है। चारों महानगरों में डीज़ल के मूल्य में 5 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि हुई है। ज्ञात हो कि तेल विपणन कंपनियों ने लगातार छह दिनों तक डीज़ल के दाम में कोई बदलाव नहीं किया था।

राजधानी दिल्ली में पेट्रोल का भाव करीब डेढ़ महीने बाद फिर से 74 रुपये प्रति लीटर के मूल्य को छूकर आगे निकल गया। दिल्ली में पेट्रोल 74.05 रुपये प्रति लीटर हो गया है। इससे पहले पांच अक्टूबर 2019 को दिल्ली में पेट्रोल 74.04 रुपये प्रति लीटर था। अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल में हालांकि सोमवार को स्थिरता बनी हुई थी लेकिन बेंट्र क्रूड का भाव करीब दो महीने के ऊंचे स्तर पर है।

इंडियन ऑइल की वेबसाइट के मुताबिक दिल्ली, कोलकता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल बढ़कर क्रमश: 74.20 रुपये, 76.89 रुपये, 79.86 रुपये और 77.13 रुपये प्रति लीटर हो गए हैं। चारों महानगरों में डीजल के दाम भी बढ़कर क्रमश: 65.84 रुपये, 68.25 रुपये, 69.06 रुपये और 69.59 रुपये प्रति लीटर बिक रहे हैं। यहां बता दें कि बीते सोमवार को देश की राजधानी दिल्ली में करीब डेढ़ महीने बाद फिर पेट्रोल का भाव 74 रुपये प्रति लीटर को पार कर गया था।

अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल के दाम में तेजी

पिछले सत्र की गिरावट के बाद अचानक अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल के दाम में तेजी बनी हुई है। पिछले महीने 31 अक्टूबर को आईसीई पर ब्रेंट क्रूड का जनवरी अनुबंध 60.23 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ था जबकि मंगलावार को ब्रेंट क्रूड के जनवरी अनुबंध में 60.30 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था। बेंचमार्क पर कच्चा तेल ब्रेंट क्रूड के भाव में इस महीने दो डॉलर प्रति बैरल से ज़्यादा की बढ़त दर्ज़ की गई है।