Arthgyani
होम > टैक्स (कर) > फास्टैग

फ़ास्टैग से करें पेट्रोल-डीजल के बिल का भुगतान

RBI ने फ़ास्टैग के जरिये पेट्रोल-डीजल के बिल भरने की अनुमति दे दी है|

वाहन चालकों के लिए खुश खबरी है| अब पेट्रोल पंप पर लंबी कतार में लाइन लगाकर खड़े रहने से छुटकारा मिलेगा| अपने वाहनों में पेट्रोल और डीजल भराने के पश्चात बिल का भुगतान करना हो गया है आसान| भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने फ़ास्टैग के जरिये बिल भरने की अनुमति दे दी है| RBI ने नोटिफिकेशन जारी करते हुए बताया कि फ़ास्टैग के जरिये वहीकल पार्किंग बिल का भी भुगतान किया जा सकेगा| केंद्र सरकार ने 1 दिसंबर 2019 से पूरे देश में सभी प्रकार के मोटर वाहनों में फ़ास्टैग को लगाना अनिवार्य कर दिया है।

फ़ास्टैग क्या है?

फ़ास्टैग एक टैग है, जिसे रेडिओ फ्रीकवेंसी आईडेंटिफिकेशन से कनेक्ट किया गया है| इसे नेशनल इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन के द्वारा संचालित किया जाता है जो कि नेशनल हाईवे ऑथोरिटी ऑफ़ इंडिया के अंतर्गत आती है| फ़ास्टटैग को वाहनों के विंडशील्ड पर लगाया जाता है| इसके जरिये टोल प्लाजा और पेट्रोल पंप पर बिल पे करने का वेट नहीं करना पड़ेगा| इन उपकरण के जरिये ऑटोमैटिक तरीके से टोल टैक्स की वसूली हो जायेगी| इससे वाहन चालकों के समय की बचत होगी|

फ़ास्टैग को खरीदना है आसान 

  • फ़ास्टैग को पेट्रोल पंप इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन, भारत पेट्रोलियम, हिन्दुस्तान पेट्रोलियम के पेट्रोल पंप से भी खरीदना आसान है।
  • एसबीआई, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई समेत कई बैंक से खरीदा जा सकता है।
  • ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पेटीएम, अमेजन डॉट कॉम पर भी यह उपलब्ध है|
  • नेशनल हाईवे अथॉरिटी की माई फास्ट ऐप पर भी यह सुविध उपलब्ध है।

फ़ास्टैग खरीदने के लिए जरूरी डॉक्यूमेंटस

  1. आपकी गाड़ी का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट
  2. वाहन मालिक की पासपोर्ट साइज फोटो
  3. वाहन मालिक का KYC डॉक्यूमेंट। जैसे कि- आईडी प्रूफ-आधार कार्ड, एड्रेस प्रूफ।
  4. फास्टटैग खरीदते समय इन सभी दस्तावेजों की ऑरिजनल कॉपी साथ में रखना अनिवार्य है।

फ़ास्टैग के जरिए टोल कलेक्शन

नेशनल इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन (NPCI) के तहत सभी टोल प्लाजाओं पर फ़ास्टटैग से वसूली की जा रही है|फास्टैग से पेट्रोल पंप, पार्किंग हर जगह का करना भुगतान आसान है|एनपीसीआई के आंकड़ों के अनुसार फ़ास्टटैग के जरिए वर्तमान में देश के 528 से ज्यादा टोल प्लाजा पर टैक्स की वसूली की जा रही है। RBI की तरफ से जारी नोटिफिकेशन में सभी अधिकृत पेमेंट सिस्टम्मस और इंट्रूमेंट्स जैसे नॉन बैंकिंग प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट, कार्ड्स और यूपीआई को नेशनल इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन (एनईटीसी) से जोड़ा जाएगा। जिसका संचालन नेशनल हाईवे ऑथोरिटी ऑफ़ इंडिया करती है|

इस तरह फ़ास्टैग अपनी गाड़ी पर लगे टैग को रीड करेगा और टोल प्लाजा, पेट्रोल पंप पर लगे इस डिवाइस को रेडिओ फ्रीकवेंसी से कनेक्ट किया गया है|