Arthgyani
होम > न्यूज > प्याज की कीमत

फिर रुलाएगा प्याज

कीमत 80 के पार,आयात की तैयारी

महंगाई से प्रभावित देशवासियों को बढ़ी  हुई कीमतों के साथ एक बार फिर से रुलाएगा प्याज|महाराष्ट्र में आयी बाढ़ का प्रभाव  प्याज के उत्पादन पर पड़ा है|कम आवक से प्याज की कीमत फिर 80 रुपये प्रति किलो के करीब पहुंच गई है|प्याज की बढ़ी कीमतों पर नियंत्रण के लिए मोदी सरकार देगी आयात को प्रोत्साहन|उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने कहा है कि सरकार अन्य देशों से प्याज के आयात को बढ़ावा देगी, ताकि इसकी कीमतों को नियंत्रण में रखा जा सके|

उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने प्याज की कीमतों में वृद्धि को देखते हुए प्याज के आयात को बढ़ावा देने का निर्णय लिया है|यह फैसला मंगलवार को हुई अंतर-मंत्रालय समिति की बैठक में लिया गया|इस बैठक  में समिति ने प्याज की उपलब्धता और कीमतों की फिर से समीक्षा की|इस बैठक में अफगानिस्तान, मिस्र, तुर्की और ईरान से  प्याज की आपूर्ति का निर्णय लिया गया है|आयात की पहली खेप में जल्द ही 80 से 100 कंटेनरों में प्याज भारत पहुँचने की आशा है|प्याज के आयात का निर्णय घरेलू उपलब्धता पर्याप्त न होने के कारण लिया गया है|आयात के द्वारा सरकार महाराष्ट्र एवं अन्य दक्षिणी राज्यों से उत्तर भारत में प्याज की आपूर्ति को सुनिश्चित करेगी|

बारिश से प्रभावित हुआ उत्पादन:   

महाराष्ट्र भारत में प्याज के बड़े उत्पादकों में शामिल है|इस वर्ष  बेमौसम बारिश और नासिक और समीपवर्ती जिलों में बाढ़ के कारण प्याज की बुआई और उत्पादन प्रभावित हुआ है|ऐसा ही हाल कमोबेश अन्य प्याज उत्पादक राज्यों का भी है|ऐसे में   आवक कम होने के कारण एक बार फिर प्याज के दाम आसमान छूने लगी हैं|जिसकी वजह से  50 रुपये किलो बिकने वाला प्याज आज 80 रुपये किलो बिक रहा है| सोमवार को दाम 70 रुपय किलो था| आने वाले समय में प्याज के दाम में और बढ़ोतरी की संभावना है|

कमी से हुआ है कीमत में इजाफ़ा:

जानकारों के अनुसार बाजार में प्याज की कमी के कारण दाम में इजाफा हो रहा है|मांग के अनुरूप आवक न होने से  आने वाले 10-15 दिनों तक इन बढ़ी कीमतों से राहत की उम्मीद नहीं है|बता दें कि प्याज के थोक एवं रिटेल मूल्यों में काफी अंतर है| थोक मंडी से रिटेल बाजार में पहुँचते पहुँचते प्याज के दाम 60 से 70 रुपये प्रति किलोग्राम हो जाते हैं| हाल ही में केंद्र सरकार ने प्याज और दालों के दाम को नियंत्रण में रखने के लिए नैफेड को बफर स्टॉक से दाल और प्याज की सप्लाई जारी रखने का निर्देश दिया था|जिसके अनुपालन में उपभोक्ता मंत्रालय ने आयात का निर्णय लिया है