Arthgyani
होम > बजट 2020 > सरकार ने बैंकों में रखे धन की सुरक्षा को 1 से बढाकर 5 लाख किया

सरकार ने बैंकों में रखे धन की सुरक्षा को 1 से बढाकर 5 लाख किया

यह जमा पर बीमा राशि में 1993 के बाद पहली बार बढ़ोतरी होगी

पिछले कुछ समय में भारतीय बैंकिंग सेक्टर के लिए बहुत बुरे रहें है इससे डरकर बहुत से जमाकर्ता बैंकों में धन रखने से डरने लगें थे| इसी दर को दूर करने के उद्देश्य से सरकार ने बैंकों में रखे धन की सुरक्षा को बढाते हुए बीमा को बढाते हुए इसकी सीमा को 1 लाख से 5 लाख कर दिया है| इसका यह अर्थ है कि अब बैंकों के दिवालिया होने की स्थति में जमाकर्तों को 5 लाख तक की राशि पूर्णत सुरक्षित रहेगी| ज्ञात हो कि पहले यह सीमा मात्र 1 लाख रूपए थी|

सरकार ने दिया था संकेत 

ज्ञात हो कि हमने पहले ही सूचित किया था कि सरकार वित्त मंत्रालय डिपोजिटर इंश्योरेन्स स्कीम एक्ट में बदलाव करके बैंकों में जमा लोगों की धनराशि पर बीमा की सीमा 1 लाख से बढ़ाकर 5 लाख रुपये तक करने पर विचार कर रहा है| अक्टूबर महीने में आजतक से बातचीत में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने यह संकेत दिया था कि इस सीमा में बढ़ोतरी की जा सकती है| 

Budget 2020 Updates in Hindi

1993 में अंतिम बार हुआ था संसोधन

यह जमा पर बीमा राशि में 1993 के बाद पहली बार बढ़ोतरी होगी|  गौरतलब है कि 1992 में प्रतिभूति घोटाले के बाद जब बैंक ऑफ कराड दिवालिया हो गया तो इसके बाद सरकार ने 1 जनवरी, 1993 से बैंक जमा पर बीमा 30 हजार रुपए से बढ़ाकर 1 लाख रुपए कर दिया था|  

लंबे समय से है मांग 

इस बीमा को बढ़ाने की मांग काफी समय से की जा रही है, क्योंकि अब के समय के हिसाब से 1 लाख  रुपए की राशि ज्यादा नहीं है और सुरक्ष‍ित निवेश होने के नाते ज्यादातर लोग अपनी गाढ़ी कमाई बैंकों में ही रखते हैं| PMC घोटाले के बाद एक बार फिर इस मांग ने जोर पकड़ा था कि बीमा राशि को बढ़ाया जाए|