Arthgyani
होम > न्यूज > बीमा कवर

बैंक जमा पर बीमा कवर ₹10 लाख करने की मांग

सबसे कम कवर देने वाले देशों में है भारत

सहकारी क्षेत्र के पंजाब ऐंड महाराष्ट्र सहकारी बैंक में वित्तीय संकट के बाद  बैंक में जमा धन  पर बीमा कवर बढ़ाने की मांग जोर पकड़ रही है।हाल ही में रिजर्व बैंक के कर्मचारी संघों ने बैंकों में जमा राशि पर बीमा कवर को मौजूदा एक लाख रुपये से बढ़ाकर 10 लाख रुपये करने की सरकार से मांग की है।विदित हो कि  वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण  ने पिछले सप्ताह ही इस संबंध में कहा था कि,मोदी सरकार मौजूदा शीतकालीन सत्र में ही बैंक जमा पर बीमा गारंटी को बढ़ाने के लिए संशोधन विधेयक संसद में पेश करेगी।

रिजर्व बैंक कर्मचारी संघ की मांग:

अखिल भारतीय रिजर्व बैंक कर्मचारी संघ ने कहा है कि, ‘हमने पहले भी इस बारे में सरकार को सुझाव दिया था कि किसी भी व्यक्ति की बैंकों में रखी गई सब तरह की जमा पर बीमा कवर को बढ़ाकर कम से कम दस लाख रुपये किया जाना चाहिए। हम पुनः अपनी मांग को दोहराते हुए सरकार से इस पर विचार करने का आग्रह करते हैं।’ विदित हो कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बयान में कहा था कि जमा राशि पर बीमा कवर को एक लाख रुपये से ऊपर किया जाएगा। हालांकि उन्होंने इस बारे में कोई स्पष्ट संकेत नहीं दिया था कि यह राशि कितनी हो सकती है।

सबसे कम कवर देने वाले देशों में है भारत:

एसबीआई(SBI) रिसर्च की हाल में जारी एक रिपोर्ट के अनुसार एक लाख रुपये का जमा बीमा कवर दुनिया में सबसे कम कवर में से एक है|इसके मुकाबले ब्राजील में जमा राशि पर 42 लाख रुपये और रूस में 12 लाख रुपये तक का कवर दिया जाता है।उपरोक्त आधारों को देखते हुए कर्मचारी संघ ने कहा है कि प्रस्तावित दस लाख रुपये की राशि करीब 14,000 डॉलर तक बैठेगी जो कि कई अन्य देशों के मुकाबले कम है।बता दें  वर्तमान में जमा बीमा और क्रेडिट गारंटी निगम प्रत्येक बैंक जमाधारक को  बैंक का लाइसेंस निरस्त होने की स्थिति में उसकी कुल जमा राशि पर अधिकतम एक लाख रुपये का बीमा कवर उपलब्ध कराता है।