Arthgyani
होम > बाजार > ई-कॉमर्स पोर्टल

भारत का ई-कॉमर्स पोर्टल बन सकता है जीईएम: पीयूष गोयल

जीईएम ने इस साल ऑर्डर 1 लाख करोड़ पहुंचाने का लक्ष्य तय किया है

अमेजन और फ्लिकार्ट की तरह जीईएम भारत का अपना ई-कॉमर्स पोर्टल बन सकता है|इसके जरिए भारत में निर्मित परंपरागत व विरासत की वस्तुओं के साथ-साथ सहकारी क्षेत्र की वस्तुओं को भी बेचा जा सकता है।ये बातें केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने बीते  रविवार को कही|वे  भारत अंतर्राष्ट्रीय सहकारी व्यापार मेला (आईआईसीटीएफ) के समापन समारोह में रविवार को संबोधित कर रहे थे|

गोयल ने बताया कि सरकार जेईएम पोर्टल को निजी कारोबार व निजी क्षेत्र के लिए खोलने पर विचार कर रही  है।जेईएम विभिन्न सरकारी विभागों और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के उपयोग में आने वाली वस्तुओं और सेवाओं की खरीद के लिए ऑनलाइन सुविधा प्रदान करता है|इसका मकसद सरकारी खरीद में पारदर्शिता लाना और उसकी दक्षता बढ़ाने के साथ-साथ खरीद में तेजी लाना है।

बता दें कि केंद्र सरकार ने छोटे कारोबार को बढ़ावा देने और सरकारी कंपनियों के लिए स्टार्टअप से 25 फीसदी सामान अनिवार्य रूप से खरीदने के उद्देश्य से सरकारी ई-मार्केटप्लेस (जीईएम) पोर्टल शुरू किया है। इससे सूक्ष्म एवं लघु उद्यम (एमएसई) वाले व्यापारियों को बड़ा फायदा हो रहा है।

पीयूष ने कहा कि सरकार का पोर्टल जेईएम (गवर्नमेंट ई-मार्केटप्लेस) भारतीय उत्पादों को बेचने में अमेजन और फ्लिपकार्ट की तरह काम कर सकता है।सहकारी क्षेत्र के उत्पादों के लिए व्यापक बाजार मुहैया करवाने के संदर्भ में उन्होंने कहा कि जीईएम स्वेदसी वस्तुओं के लिए देश-विदेश में एक आउटलेट का काम कर सकता है।उन्होंने कहा कि 6,500 रेलवे स्टेशनों पर पारदर्शी तरीके से को-ऑपरेटिव उत्पादों के लिए स्टॉल खोले जा सकते हैं।इसी तरह के स्टॉल हवाई अड्डों और बस अड्डों पर खोले जाने की बात भी कही। उन्होंने बताया  कि नए मॉलों में सहकारी या हस्तशिल्प की दुकानों के लिए किफायती दरों पर जगह उपलब्ध करायी जा सकती है।

जीईएम क्या है?

जीईएम एक सरकारी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म है जो किसी भी प्रकार का सामान और सेवाएं प्रदान करने के लिए एक माध्यम की भूमिका निभाता है।इसकी स्थापना  2016-17 में हुई|स्थापना के बाद से इस प्लेटफॉर्म पर सेलर्स और बायर्स की संख्या लगातार बढ़ रही है।वर्तमान में इस प्लेटफॉर्म पर 37 हजार से ज्यादा बायर्स और 2.5 लाख से ज्यादा सेलर और सर्विस प्रदाता रजिस्टर्ड हैं।इस प्लेटफॉर्म पर 10 लाख से ज्यादा उत्पाद और 13 हजार से ज्यादा सेवाएं उपलब्ध हैं।2018-19 में जीईएम पर कुल ऑर्डर 32 हजार करोड़ रुपए के पार पहुंच गए। जीईएम ने इस साल अपने ऑर्डर 1 लाख करोड़ के करीब पहुंचाने का लक्ष्य तय किया है।