Arthgyani
होम > बजट 2020 > आर्थिक सर्वेक्षण: भारत का विदेशी मुद्रा भंडार पहुंचा रिकॉर्ड उंचाई पर

आर्थिक सर्वेक्षण: भारत का विदेशी मुद्रा भंडार पहुंचा रिकॉर्ड उंचाई पर

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में पेश आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट में किया खुलासा

बजट से एक दिन पूर्व अपना आर्थिक सर्वेक्षण पेश करते हुए सरकार ने खुलाशा किया कि भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 450 अरब डॉलर के स्तर के पार पहुंच गया है| पेश आर्थिक सर्वेक्षण में सरकार ने यह भी बताया यह भारत का विदेशी मुद्रा भंडार का उच्चतम स्तर है| ज्ञात हो कि प्राप्त अंतिम रिपोर्ट के अनुसार 16 नवंबर को भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 447.81 अरब डॉलर के स्तर पर पहुंच गया था| यह उस समय का उच्चतम स्तर था|

भारत में RBI करता है रिज़र्व

गौरतलब है कि विदेशी मुद्रा भंडार किसी भी देश के केंद्रीय बैंक द्वारा रखी गई धनराशि या अन्य परिसंपत्तियां होती हैं ताकि जरूरत पड़ने पर वह अपनी विदेशी देनदारियों का भुगतान कर सकें| इस तरह की मुद्राएं केंद्रीय बैंक जारी करता है| भारत में यह कार्य रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया (RBI) करता है| विदेशी मुद्रा भंडार में केंद्रीय बैंकों के पास रिज़र्व राशि के साथ ही साथ सरकार और अन्य वित्तीय संस्थानों की तरफ से केंद्रीय बैंक के पास जमा की गई राशि भी होती है|

विदेशी मुद्रा भंडार की गणना डॉलर में!

विदेशी मुद्रा भंडार एक या एक से अधिक मुद्राओं में रखे जा सकते हैं| ज्यादातर डॉलर और कुछ हद तक यूरो में विदेशी मुद्रा भंडार में शामिल होता है| मगर दिलचस्प बात यह है कि इसकी गणना अधिकतर अमेरिकी डॉलर में ही होती है| ज्ञात हो कि विदेशी मुद्रा भंडार को फॉरेक्स रिजर्व या Fx रिजर्व भी कहा जाता है|

कुल मिलाकर विदेशी मुद्रा भंडार में केवल विदेशी बैंकनोट, विदेशी बैंक जमा, विदेशी ट्रेजरी बिल और अल्पकालिक और दीर्घकालिक विदेशी सरकारी प्रतिभूतियां शामिल होनी चाहिए| हालांकि सोने के भंडार, विशेष आहरण अधिकार (SDR) और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के पास जमा राशि भी विदेशी मुद्रा भंडार का हिस्सा होता है|