Arthgyani
होम > न्यूज > अंतरराष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी के बाद आया पेट्रोलियम मंत्री का आश्वासन, भारत में नहीं है कच्चे तेल की आफत

अंतरराष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी के बाद आया पेट्रोलियम मंत्री का आश्वासन, भारत में नहीं है कच्चे तेल की आफत

‘भारत 2020 ऊर्जा नीति समीक्षा' रिपोर्ट जारी करने के मौके पर अंतरराष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी के निदेशक ने दिया था भारत को आश्वासन

अमेरिका-ईरान तनाव के मद्देनज़र वैश्विक पेट्रोलियम कच्चे तेल बाज़ार में आए आशंकाओं के बीच अंतरराष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी के कार्यकारी निदेशक फतेह बिरोल ने भारत सहित पूरे विश्व को कच्चे तेल की नियमित और उचित मूल्य पर सप्लाई के लिए आश्वस्त किया है| अंतरराष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी का मानना है कि वैश्विक बाजार में कच्चे तेल की आपूर्ति पर्याप्त मात्रा में हो रही है| ऐसे में, दाम बढ़ने की कोई वजह नहीं दिखाई देती है|

धर्मेंद्र प्रधान ने पहले जताई थी चिंता 

एजेंसी के कार्यकारी निदेशक फतेह बिरोल ने कहा कि अभी वैश्विक बाजार में कच्चे तेल की 10 लाख बैरल प्रतिदिन की अतिरिक्त आपूर्ति हो रही है| उन्होंने कहा कि भू-राजनीतिक तनाव की वजह से तात्कालिक तौर पर कच्चे तेल में तेजी आयी, लेकिन इसके बाद स्थिति सामान्य हो गई है| विदित हो कि इस कार्यक्रम में पेट्रोलियम मंत्री ने स्थिति पर चिंता जाहिर करते हुए कहा था कि कच्चे तेल की कीमतों में उतार-चढ़ाव भारत के लिए गंभीर चिंता का विषय है| उन्होंने कहा था कि अभी हम ऐसे समय में मिल रहे हैं, जब पश्चिम एशिया में तनाव है और क्षेत्र की स्थिरता व सुरक्षा पर इसका असर पड़ रहा है| हम कच्चे तेल की कीमतों में घट-बढ़ को लेकर चिंतित बने हुए हैं|

परेशान होने की कोई जरूरत नहीं- पेट्रोलियम मंत्री 

मगर आज शनिवार को CII की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम से इतर बोलते हुए केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि ईरान और अमेरिका में जारी तनाव के चलते पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों को लेकर ‘पैनिक’ होने की जरूरत नहीं है| सरकार ने ‘वेट एंड वॉच’ का फैसला किया है और इस मुद्दे को लेकर परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है|

विदित हो कि ईरान भारत के पेट्रोलियम के बड़े आपूर्तिकर्ता देशों में से एक है और जब अमेरिका- ईरान के बीच तनाव उत्पन्न हुआ तो भारतीय रणनीतिकारों को यह डर सताने लगा था कि अगर ईरान पर अमेरिका का हमला होता है तो विषम परिस्थिति में भारत को कच्चे तेल की आपूर्ति प्रभावित हो जाएगी| इससे यह भी आशंका जताई गई थी कि भारत में पेट्रोल की कीमतों में भारी उछाल आएगा| मगर पूर्व में फतेह बिरोल के आश्वासन और आज के धर्मेंद्र प्रधान के विश्वास से इन आशंकाओं पर विराम लगेगा, इसकी पूरी उम्मीद है|