Arthgyani
होम > न्यूज > अर्थव्यवस्था समाचार > औद्योगिक उत्पादन वृद्धि दर घटी

महंगाई की बढी रफ्तार उद्योग बेजार

खुदरा मुद्रास्फीति बढ़कर 3.21 प्रतिशत पर

खाद्य पदार्थो के दाम बढ़ने से अगस्त महीने में खुदरा मुद्रास्फीति बढ़कर 3.21 प्रतिशत पर जा पहुंची है।यह 10 महीने का उच्चतम स्तर है। सरकार के  आधिकारिक आंकड़ों में गुरुवार को इसकी जानकारी दी गई। हालांकि, मुद्रास्फीति अभी भी रिजर्व बैंक के लक्ष्य के दायरे में है, इससे नीतिगत दरों में कटौती की संभावना बरकरार है।

बता दे कि जुलाई में खुदरा मुद्रास्फीति 3.15 प्रतिशत थी, जबकि पिछले साल अगस्त में खुदरा मुद्रास्फीति 3.69 प्रतिशत थी। इससे पहले खुदरा मुद्रास्फीति अक्टूबर 2018 में 3.38 प्रतिशत रही। सांख्यिकी एवं कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय के राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय द्वारा जारी उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) के अगस्त के आंकड़ों के अनुसार, अगस्त महीने में खाद्य सामग्री वर्ग में 2.99 प्रतिशत मूल्य वृद्धि रही, जो जुलाई में 2.36 प्रतिशत थी. खुदरा मुद्रास्फीति स्वास्थ्य क्षेत्र में 7.84 प्रतिशत, पुनर्निर्माण एवं मनोरंजन क्षेत्र में 5.54 प्रतिशत तथा व्यक्तिगत देखभाल क्षेत्र में 6.38 प्रतिशत रही।

शिक्षा क्षेत्र में इसकी दर 6.10 प्रतिशत, मांस एवं मछली में 8.51 प्रतिशत, दाल एवं अन्य उत्पादों में 6.94 प्रतिशत तथा सब्जियों के दाम में 6.90 प्रतिशत वृद्धि रही। खुदरा मुद्रास्फीति की दर सबसे अधिक असम में 5.79 प्रतिशत रही। इसके बाद कर्नाटक में 5.47 प्रतिशत और उत्तराखंड में 5.28 प्रतिशत रही। खास बात यह रही कि चंडीगढ़ में यह दर शून्य से 0.42 प्रतिशत नीचे रही। इस दौरान देश में ग्रामीण क्षेत्रों में खुदरा मुद्रास्फीति की दर 2.18 प्रतिशत और शहरी क्षेत्रों में 4.49 प्रतिशत रही।

आर्थिक सुस्ती से जूझ रही अर्थव्यवस्था के लिए औद्योगिक मोर्चे से भी बुरी खबर आई है। जुलाई में औद्योगिक उत्पादन वृद्धि दर घटकर 4.3 फीसदी रही, जो एक साल पहले इसी महीने में यह 6.5 प्रतिशत थी। औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) द्वारा मापी जाने वाली औद्योगिक उत्पादन वृद्धि दर में यह गिरावट मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर के निराशाजनक प्रदर्शन के कारण आई है।

आईआईपी में सुस्ती वजह इसमें शामिल विनिर्माण क्षेत्र की नरमी रही। जुलाई में विनिर्माण क्षेत्र की वृद्धि 4.2 फीसदी रही, जबकि एक साल पहले की समान अवधि में यह 7 फीसदी रही थी। पूंजीगत वस्तुओं के उत्पादन में जुलाई महीने में 7.1 फीसदी की कमी देखी गई, जबकि पिछले साल जुलाई में इसमें 2.3 फीसदी वृद्धि दर्ज की गई थी।