Arthgyani
होम > म्यूच्यूअल फंड > महिंद्रा टॉप-250

महिंद्रा म्युचुअल फंड की नयी पेशकश -महिंद्रा टॉप 250

महिंद्रा टॉप 250 निवेश योजना है, एनएफओ 6 दिसंबर को खुलेगी जो 20 दिसंबर 2019 तक चलेगा।

महिंद्रा एंड महिंद्रा फाइनेंशियल सर्विसेज़ लिमिटेड की पूर्ण स्वामित्व वाली सब्सिडियरी महिंद्रा म्युचुअल फंड ने नई इक्विटी स्कीम लॉन्च की है। इस स्कीम का नाम महिंद्रा टॉप 250 निवेश योजना है।लार्ज और मिड कैप कंपनियों की इक्विटी और इक्विटी रिलेटेड सिक्युरिटीज़ में निवेश से आय तथा लॉन्ग टर्म कैपिटल एप्रिसिएशन लेने वाले निवेशकों के लिए कंपनी ने यह योजना लॉन्च की है। महिंद्रा म्युचुअल फंड का ये नया फंड ऑफर (एनएफओ) महिंद्रा टॉप 250 निवेश योजना 6 दिसंबर को खुलेगी जो 20 दिसंबर 2019 तक चलेगा।

  • महिंद्रा ने लॉन्च की महिंद्रा टॉप 250 निवेश योजना।
  • इस म्युचुअल फंड का उद्देश्य टॉप 250 कंपनियों में निवेश करना है।
  • ये नया फंड ऑफर (एनएफओ) 6 दिसंबर को खुलेगी जो 20 दिसंबर 2019 तक चलेगा।
  • लार्ज और मिड कैप में निवेश की योजना।
  • स्टॉक सलेक्शन की प्रक्रिया हर तीन महीने में होगी।
  • यह योजना लॉन्ग टर्म वैल्थ क्रिएशन और इनकम चाहने वाले इन्वेस्टर्स के लिए उपयुक्त है।
  • विशेषकर ख़ुदरा निवेशकों के निवेश के लिए यह सुनहरा अवसर है।

यह योजना इक्विटी और इक्विटी रिलेटेड सिक्युरिटीज़ में न्यूनतम 80 फ़ीसद निवेश करेगी। साथ ही इस योजना में कर्ज़ और मनी मार्केट सिक्युरिटीज़ में 20 फ़ीसद तक निवेश का प्रावधान है।

जागरण न्यूज़ के अनुसार महिंद्रा म्युचुअल फंड के चीफ इक्विटी स्ट्रैटेजिस्ट वेंकटरमन ने कहा कि महिंद्रा टॉप 250 निवेश योजना का लक्ष्य लॉर्ज और मिड कैप में करीब बराबर प्रभुत्व बनाना है और मार्केट चक्र के हिसाब से रणनीतिक फैसले लेना है। इसमें स्टॉक सलेक्शन की प्रक्रिया हर तीन महीने में होगी।

कंपनी के मुख्य विपणन अधिकारी (सीएमओ) जतिंदर पाल सिंह ने मंगलवार को यह घोषणा करते हुये कहा कि यह एनएफओ को न्यूनतम आकार 10 करोड़ रुपए है लेकिन एक ओपेन इंडेड फंड होने की वजह से इसके लिए कोई अधिकतम सीमा तय नहीं की गयी है। उन्होंने ये भी कहा कि भारत सरकार और भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा वित्तीय और मौद्रिक मोर्चे को बूस्ट करने की घोषणाओं से जल्द ही भारतीय अर्थव्यवस्था के पटरी पर लौटने की उम्मीद है। हम आशा करते हैं कि यह योजना इक्विटी पोर्टफोलियो को स्थायित्व के साथ ग्रोथ देगी। साथ ही यह योजना लॉन्ग टर्म वैल्थ क्रिएशन और इनकम चाहने वाले इन्वेस्टर्स के लिए उपयुक्त है।’

उनके अनुसार इस फंड की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इसमें से 35 -35 प्रतिशत राशि शेयर बाज़ार में सूचीबद्ध बड़ी और मझौली अर्थात टॉप 250 कंपनियों में निवेश की जायेगी। शेष राशि फंड मैनेजर अपने विवेकानुसार और बाज़ार की स्थिति को देखते हुये निवेश करेंगे। मौद्रिक और नीतिगत उपायों से भारतीय अर्थव्यवस्था के शीघ्र ही सुस्ती से बाहर निकलने का अनुमान जताया जा रहा है जिससे शेयर बाजार में भी तेजी आयेगी। इसके मद्देनजर निवेशकों विशेषकर खुदरा निवेशकों के निवेश के लिए यह सुनहरा अवसर है। अगली एक दो तिमाहियों में किए गए जाने वाले निवेश पर बेहतर रिटर्न मिलने की संभावना है।