Arthgyani
होम > न्यूज > शेयर बाज़ार

मुनाफावसूली और वैश्विक संकेतों से टूटा बाजार

निवेशकों का भरोसा घरेलु बाजार में कम हुआ

इस कारोबारी सप्ताह में शेयर बाज़ार की गिरावट हर निवेशक की चिंता का सबब बनी हुई है|जीडीपी की गिरावट के आंकड़ों के आने के बाद से बाजार अस्थिर बना हुआ है|मंगलवार के कारोबारी दिन में सेंसेक्स (BSE) 247 अंक गिरकर 40,256 के स्तर पर बंद हुआ|जबकि निफ्टी 50 इंडेक्स (NSE Nifty) 76 अंकों की गिरावट के साथ 11,861 के स्तर पर बंद हुआ आज|दिन के अंतिम कारोबारी सत्र में भारी बिकवाली नजर आयी| जानते हैं बाजार को प्रभावित करने वाले दो बड़े कारण|

कमजोर विदेशी संकेत:

कमजोर विदेशी संकेतों ने काफी हद तक भारतीय शेयर बाजार को प्रभावित किया|मंगलवार को मजबूती के साथ खुला बाजार वैश्विक संकेतों के कारण मंद पड़ गया। अमेरिका और चीन के बीच व्यापारिक प्रतिस्पर्धा  एवं एशियाई बाजारों से कोई उत्साहवर्धक संकेत नहीं मिलने के कारण घरेलु शेयर बाजार भी प्रभावित है|इन्ही रुझानों को देखते हुए निवेशक भी विशेष सतर्कता बरत रहे हैं| वैश्विक बाजार में सभी जगहों पर  बिकवाली का दौर जारी है।ब्रिटेन का एफटीएसई 0.95 प्रतिशत, जर्मनी का डैक्स 1.14 प्रतिशत, जापान का निक्की 0.09 प्रतिशत और हांगकांग का हैंगसेंग 0.22 प्रतिशत की गिरावट में रहा।

मुनाफावसूली के लिए बिकवाली:

घरेलू स्तर पर सभी क्षेत्रों में हुई मुनाफावसूली के कारण बिकवाली ने बाजार की बढ़त को रोका|जीडीपी (GDP) की गिरावट को देखते हुए निवेशकों का भरोसा घरेलु बाजार में कम नजर आया| निवेशकों ने मुफावासूली के लिए पूँजी निकासी के विकल्प को चुना | बीएसई में छोटी और मझौली कंपनियों में बिकवाली का अधिक प्रभाव नजर आया। बीएसई का मिडकैप बाजार बंद होने पर 1.11 प्रतिशत गिरकर 14519.78 अंक पर और स्मॉलकैप 1.02 प्रतिशत फिसलकर 13145.27 अंक पर रहा। यूटिलिटी में सबसे अधिक 2.16 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई। बीएसई में कुल 2705 कंपनियों में कारोबार हुआ, जिसमें से 1723 गिरावट में और 811 बढ़त में रहे,जबकि 171 में कोई बदलाव नहीं हुआ।