Arthgyani
होम > बाजार > इक्विटी > एड्यूरेंस टेक्नोलॉजी

मौजूदा समय में एड्यूरेंस टेक्नोलॉजी के शेयर ख़रीदना फ़ायदेमंद

कंपनी ने नई कंपनियों से मिले ऑर्डर्स के चलते इंडस्ट्री से बेहतर प्रदर्शन किया है।

मौजूदा समय Endurance Technology(ET) के शेयर ख़रीदने के लिए अच्छा है। कारण कंपनी के शेयर बीएसई ऑटो इंडेक्स की तुलना में 15 फ़ीसदी के प्रीमियम पर कारोबार कर रहे हैं। साल 2016 में लिस्टिंग के बाद से इसका औसत प्रीमियम 64 फ़ीसदी है।

दोपहिया वाहनों के पुर्जे सप्लाई करने वाली कंपनी एड्यूरेंस टेक्नोलॉजी अपनी प्रतिद्वंद्वी कंपनियों को पीछे छोड़ सकती है, इसकी पूरी संभावना है। औरंगाबाद स्थित यह कंपनी दोपहिया वाहन कंपनियों को डिस्क ब्रेक, डिस्क ब्रेक एसेम्बली, शॉकर्स, फ्रंट फोर्क्स और सिलेंडर ब्लॉक आदि की सप्लाई करती है। इसके मुख्य ग्राहकों में बजाज ऑटो, रॉयल एन्फील्ड जैसी कंपनियां हैं। कंपनी हीरो मोटोकॉर्प, हॉन्डा मोटरसाइकिल और टीवीएस मोटर्स को भी सप्लाई करती है।

कंपनी की आर्थिक हालत ठीक न होते हुए भी इसकी आय बढ़ बढ़ रही है और कंपनी का मार्जिन बेहतर है। हालाँकि चालू वित्त वर्ष के दूसरी तिमाही में कंपनी का लोकल रेवेन्यू 10 फ़ीसदी घटा है, जबकि इंडस्ट्री के वॉल्यूम में 15 फ़ीसदी की गिरावट दर्ज़ की गयी। कंपनी ने नई कंपनियों से मिले ऑर्डर्स के चलते इंडस्ट्री से बेहतर प्रदर्शन किया है। घरेलू परिचालन में कंपनी का प्रॉफिट मार्जिन 200 बेसिस अंक बढ़कर 15.2 फ़ीसदी हो गया है।

 एड्यूरेंस टेक्नोलॉजी के शेयर ख़रीदने की 5 वजहें

  1. कंपनी के शेयर बीएसई ऑटो इंडेक्स की तुलना में 15 फ़ीसदी के प्रीमियम पर कारोबार कर रहे हैं।
  2. सितंबर तिमाही में हीरो मोटोकॉर्प को हुई बिक्री में वृद्धि दोहरे अंकों में दर्ज़ हुई।
  3. दैनिक फ्रंट फोर्क की सप्लाई को 2,700 से बढ़ाकर 6,200 तक पहुँचने का लक्ष्य।
  4. यह एल्युमिनियम डिकास्टिंग प्रोडक्ट की सप्लाई के जरिये विदेशी बाजार में 27 फ़ीसदी हिस्सेदारी के साथ सक्रिय।
  5. टीवीएस से नए ब्रेक्स और सस्पेंशन के ऑर्डर हासिल करना इसका अगला लक्ष्य है जिससे रेवेन्यू बढ़ने के आसार हैं।

सितंबर तिमाही में हीरो मोटोकॉर्प को हुई बिक्री में वृद्धि दोहरे अंकों में दर्ज़ हुई। कंपनी का हीरो के हलोल प्लांट के लिए अपने दैनिक फ्रंट फोर्क की सप्लाई को 2,700 से बढ़ाकर 6,200 तक पहुँचने का लक्ष्य है। कर्नाटक से कंपनी टीवीएस मोटर्स को सप्लाई करती है जो पहले की तुलना में बढती जा रही है। कंपनी ने टीवीएस अपाचे के लिए डिस्क ब्रेक दिए थे, जहां इसे 40 करोड़ रुपये के रेवेन्यू के आसार नज़र आते हैं। टीवीएस से नए ब्रेक्स और सस्पेंशन के ऑर्डर हासिल करना एंड्यूरेंस का अगला लक्ष्य है। कंपनी कंबाइन्ड ब्रेकिंग सिस्टम और एंटी ब्रेकिंग सिस्टम पर ज़ोर दे रही है, जिससे रेवेन्यू बढ़ने के आसार हैं।विश्लेषकों का कहना है कि कंपनी की रेवेन्यू ग्रोथ सकारात्मक रहने की पूरी उम्मीद है, जबकि इंडस्ट्री के लिए यह नकारात्मक भी रह सकता है। कंपनी विदेशी बाजार में सक्रिय है, जहां ये एल्युमिनियम डिकास्टिंग प्रोडक्ट की सप्लाई करती है। कंपनी के रेवन्यू में इसकी हिस्सेदारी 27 फ़ीसदी है।