Arthgyani
होम > न्यूज > म्युचुअल फंड्स ने की 5000 करोड़ की निकासी

म्युचुअल फंड्स ने की 5000 करोड़ की निकासी

म्युचुअल फंड हाउसेस ने कम जोखिम लेने को वरीयता दी है

बाजार के वर्तमान उतार चढाव को देखते हुए म्युचुअल फंड्स ने निवेश योजना में भारी बदलाव|बता दें कि म्युचुअल फंड में निवेशित धनराशि को फंड मैनेजर द्वारा नियंत्रित किया जाता है|निवेशकों को उच्च प्रतिलाभ देने के लिए फंड मैनेजर समय समय पर फंड योजना में व्यापक बदलाव करते रहते हैं| शेयर बाजार की वर्तमान चाल को देखते हुए म्युचुअल फंड हाउसेस ने निवेश योजना में कम जोखिम लेने को वरीयता दी है|

पांच हजार करोड़ रुपए की निकासी:

एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया(AMFI) के द्वारा प्रस्तुत आंकड़ों के अनुसार म्युचुअल फंडों (Mutual Funds) ने इस साल जुलाई-सितंबर तिमाही के दौरान ऋणपत्रों से पांच हजार करोड़ रुपए की निकासी की है।ये निकासी  मुख्य रूप से तरल तथा ऋण जोखिम वाली सम्पत्तियों (अधिक जोखिम वाली ऋण प्रतिभूतियों) से की गयी।फंड्स मैनेजर द्वारा की गयी निकासी ये बताती है कि वे निवेशकों कि निवेशित पूँजी को सुरक्षित रखने की वरीयता पर योजना बना रहे हैं|

कॉरपोरेट बांड एवं सार्वजनिक उपक्रम के ऋणपत्रों में निवेश:

विदित हो कि म्युचुअल फंडों ने सितंबर तिमाही के दौरान तरल प्रतिभूतियों में लगाए गए कोष से 15,862 करोड़ रुपए तथा ऋण जोखिम वाली प्रतिभूतियों से 8,032 करोड़ रुपए निकाले। हालांकि इस दौरान म्यूचुअल फंडों ने कॉरपोरेट बांड में करीब 6,717 करोड़ रुपए तथा बैंकिंग एवं सार्वजनिक उपक्रम के ऋणपत्रों में 10,749 करोड़ रुपए लगाये।म्युचुअल फंड हाउसों ने  ऋणपत्रों से कुल  5,061 करोड़ रुपए की निकासी की है| इसके पूर्व अप्रैल-जून तिमाही में म्युचुअल फंडों ने ऋणपत्रों में शुद्ध रूप से 19,700 करोड़ रुपए का अतिरिक्त निवेश किया था।

बढ़ा म्युचुअल फंडों का संपत्ति आधार:

ऋणपत्रों से पूंजी निकासी के बाद भी आलोच्य तिमाही के दौरान म्यूचुअल फंडों का संपत्ति आधार एक लाख करोड़ रुपए से मामूली बढ़त के साथ 1.01 लाख करोड़ रुपए पर पहुंच गया।आलोच्य तिमाही के दौरान निवेशकों ने इक्विटी म्यूचुअल फंडों में 24 हजार करोड़ रुपए निवेश किए। यह जून तिमाही की तुलना में 35 प्रतिशत अधिक है। इस श्रेणी में म्युचुअल फंड के निवेश बढ़ने का मुख्य कारण एफपीआई अधिशेष को वापस लेना, कॉरपोरेट करों में कटौती होना तथा आने वाले समय में अन्य सुधारों की उम्मीद है।