Arthgyani
होम > म्यूच्यूअल फंड > म्युचुअल फंड में निवेश के 11 फायदे

म्युचुअल फंड में निवेश के 11 फायदे

म्युचुअल फंड का अर्थ होता है सामूहिक निवेश

निवेश के चर्चित माध्यमों में म्युचुअल फंड का नाम प्रमुखता से लिया जाता है| नये निवेशकों के मन ये सवाल होता है कि म्‍यूचुअल फंड क्या है? आसान शब्दों में कहें तो mutual fund का अर्थ होता है सामूहिक निवेश| शाब्दिक अर्थों की बात करें तो इसे पारस्परिक निधि कहा जा सकता है|विभिन्न निवेशकों से एकत्र धनराशि से शेयर व प्रतिभूतियों में निवेश करके लाभ अर्जित करने वाले फंड को म्युचुअल फंड कहते है।इसमे निवेश से अधिकतम लाभ अर्जित करने के लिए फण्ड मैनेजर धन का प्रबंधन करते हैं| उपरोक्त प्रकार से अर्जित हर लाभ एवं हानि सभी निवेशकों में समान रूप से वितरित की जाती है|भारत में म्युचुअल फंड फण्ड की सभी कंपनियों का पंजीकरण sebi (सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड आफ इंडिया) के अंतर्गत होता है|

म्‍युचुअल फंड में निवेश के फायदे  :

म्युचुअल फंड में किये निवेश को फंड मैनेजर पेशेवर तरीके से मैनेज करते हैं।वो अपने अनुभव से सही जगहों पर निवेश करके अधिकतम रिटर्न सुनिश्चित करते हैं।बिन्दुवार जानते हैं mutual fund में निवेश के लाभ|

  1. Mutual Fund में बड़ी रकम ही निवेश करना जरूरी नहीं होता|आप फंड  में मात्र 500 रुपए से निवेश शुरू कर सकते हैं और बाद में इस निवेश को बढ़ाया जा सकता है|
  2. आपकी निवेश राशि का कुशल प्रबंधन फण्ड मैनेजर द्वारा किया जाता है|ये पूरी जानकारी एकत्र करने के बाद लाभ दे रहे शेयर एवं अन्य प्रतिभूतियों में निवेश करते हैं|अतः एक नया निवेशक भी सरलता से निवेश कर सकता है|
  3. म्युचुअल फंड के द्वारा हम विविध प्रकृति के माध्यमों में निवेश कर सकते हैं|उदाहरण के तौर पर समझे तो सीधे इक्विटी स्‍टॉक में निवेश करके सिर्फ कुछ कंपनियों में निवेश किया जा सकता है। दूसरी तरफ म्‍युचुअल फंड में निवेश किया गया पैसा सैकडों स्‍टॉक में निवेश किया जाता है।अतः ये कहना गलत न होगा कि म्‍यूचुअल फंड हमे निवेश की विविधता प्रदान करते हैं|
  4. म्युचुअल फंड फण्ड में निवेश करना बेहद आसान है|निवेशक ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों माध्यमों से निवेश कर सकते हैं|
  5. म्युचुअल फंड में इक्विटी और डेट के बीच एक संतुलन बनाया जाता है जिससे शेयर बाजार में उतार चढ़ाव से पैदा होने वाला जोखिम कम हो जाता है|
  6. म्‍युचुअल फंड में लंप सम और एसआईपी इन्‍वेस्‍टमेंट के द्वारा निवेश किया जा सकता है। लंप सम से एक बार में बड़ी रकम म्‍युचुअल फंड में निवेश की जा सकती है।जबकि एसआईपी(sip ) के जरिए हर माह अपनी पसंद के म्‍युचुअल फंड में एक निश्चित रकम लंबे समय तक निवेश की जा सकती है।
  7.  इक्विटी म्‍युचुअल फंड जैसे इक्विटी लिंक्‍ड सेविंग ईएलएसएस के जरिये साल में 1.5 लाख रुपए तक निवेश करने पर टैक्‍स में छूट भी मिलती है।
  8. म्युचुअल फंड की लोकप्रियता बढ़ने का सबसे बड़ा कारण यह है इसमें निवेश और निकासी की सरलता।आप इसमें कभी भी निवेश कर सकते हैं और कभी भी अपना पैसा निकाल सकते हैं।किन्तु अगर आप अपने पैसे फिक्‍स्ड डिपॉजिट में जमा करते हैं तो समय से पहले पैसा निकालने पर आपको अतिरिक्त चार्ज देना पड़ता है|
  9. म्युचुअल फंड आपको अपने निवेश में विविधता लाने में मदद करते हैं| जब आप केवल एक ही विकल्प में निवेश करते हैं, तो बाजार के लुढ़कने पर आप बड़ा नुकसान उठा सकते हैं| हालांकि, आप विभिन्न एसेट क्लास में निवेश करके इस समस्या से बच सकते हैं.
  10. म्युचुअल फंड निवेशकों को रिटर्न की गारंटी नहीं देते क्योंकि वे बाजार के प्रदर्शन से जुड़े होते हैं लेकिन लम्बे समय में ये फंड कंपाउन्डिंग के प्रभाव से अच्छा रिटर्न देते हैं|लम्बे निवेश के लिए ये एफडी एवं अन्य पारम्परिक निवेश विकल्पों से अच्छा एवं लाभदायक निवेश है|
  11. म्युचुअल फंड कंपनियां कागजी कार्रवाई सहित सभी प्रशासनिक गतिविधियों का प्रबंधन करती हैं। नेट एसेट वैल्यू (एनएवी) और खाता विवरणों के संयोजने के माध्यम से निवेश पोर्टफोलियो की प्रगति से निवेश को अवगत कराती रहती हैं|