Arthgyani
होम > न्यूज > यूएस फेड की ब्याज दरों में कटौती

यूएस फेड की ब्याज दरों में कटौती, निवेशकों में डर का माहौल

अमेरिका के फेडरल रिजर्व ने ब्याज दरों में 25 बेसिस प्वाइंट की कटौती

अमेरिका के फेडरल रिजर्व ने ब्याज दरों में 25 बेसिस प्वाइंट कटौती की वजह से भारतीय शेयर बाजार पर इसका नकारात्मक असर दिखाई दे रहा है| शेयर बाजार के विशेषज्ञों के मतानुसार सप्‍ताह के चौथे कारोबारी दिन में सेंसेक्‍स और निफ्टी में बड़ी गिरावट देखने को मिली| कारोबार के दौरान सेंसेक्‍स 400 अंक से अधिक नीचे गया और निफ्टी भी 150 अंक तक गिरा|

वजह यह है की यूएस फेड की ब्याज दरों में कटौती के फैसले से अमेरिका में लोगों को राहत मिलने के बावजूद भी निवेशकों में डर का माहौल बना हुआ है|  ब्याज दरों में कटौती करेंसी वैल्यू को गिरा देती है क्योंकि कम दर होने के कारण ब्याज देने वाली असेट्स जैसे सरकारी बॉन्ड या डेट में निवेश पर कम पैसा मिलेगा| इससे डॉलर के मूल्यांकन में कमी आएगी| डॉलर में कमी का मतलब दुनिया के सारे मार्केट पर बुरा असर पड़ेगा| बता दें कि अधिकतर देशों का कारोबार डॉलर के जरिए होता है|

इसी वजह से बैंक और कई कंपनीयों के शेयरों के दाम में भी गिरावट देखी गई| सबसे ज्यादा यस बैंक के शेयरों में गिरावट आई इसके शेयर करीब 8 फीसदी तक लुढ़क गए. इसके अलावा टाटा स्‍टील, वेदांता, आईसीआईसीआई बैंक, एचसीएल, टीसीएस और हीरो मोटोकॉर्प जैसे शेयर भी 1 प्रतिशत से अधिक गिरावट के साथ कारोबार करते देखे गए| एयरटेल, एशियन पेंट और टाटा मोटर्स गेनर भी इसमें शामिल हैं| इससे पहले कच्चे तेल में नरमी और रुपये की मजबूती से निवेशकों का भरोसा बढ़ने से घरेलू शेयर बाजार में दो दिनों से बड़ी गिरावट देखने को मिली|

बता दे, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ई-सिगरेट पर बैन का फैसला सुनाया| इस फैसले के बाद आईटीसी, गॉडफ्रे फिलिप्स समेत अन्य सिगरेट निर्माताओं के शेयरों में तेजी दर्ज की गई| गॉडफ्रे फिलिप्स के शेयर 5.55 फीसदी की तेजी के साथ 990.95 पर, जबकि आईटीसी के शेयर 1.03 फीसदी की तेजी के साथ 239.60 पर बंद हुए| वीएसटी इंडस्ट्रीज और गोल्डन टोबैको के शेयरों में भी तेजी आई और वे क्रमश: 3.43 फीसदी और 4.69 फीसदी की तेजी के साथ बंद हुए|

बता दें कि, ई-सिगरेट बैन के इस फैसले के तहत क़ानूनी नियमों के उल्लंघन पर एक साल की सजा या 1 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है| दूसरी बार कानून तोड़ने पर 3 साल की जेल या 5 लाख रुपये का जुर्माना या दोनों लगाए जाएंगे|