Arthgyani
होम > न्यूज > वित्त समाचार > SBI सिर्फ मार्जिनल कॉस्ट बेस्ड लेंडिंग रेट पर लोन दे रही है|

रेपो रेट आधारित होम लोन देने से मुकरा SBI

SBI अब सिर्फ मार्जिनल कॉस्ट बेस्ड लेंडिंग रेट पर लोन दे रही है

बीते दिनों, RBI ने सभी बैंकों से कहा है कि वे नये फ्लोटिंग रेट होम लोन, ऑटो लोन को 1 अक्‍टूबर से एक्‍सटर्नल बेंचमार्क से जोड़े| ग्राहकों के नजरिये से ये एक आशावादी खबर थी जिसका अनुपालन सभी बैंको के लिए अनिवार्य होता है| उस दौरान SBI ने सबसे पहले रेपो रेट बेस्ड होम लोन देने की पेशकश की थी| तजा घटनाक्रम में SBI ने इस नियम के अनुपालन से साफ़ इनकार कर दिया है| ट्विटर पर एक यूजर क्वेरी का जवाब देते हए बैंक ने ट्वीट किया है कि उसने रेपो रेट बेस्ड होम लोन स्कीम को वापस ले लिया है| अब बैंक सिर्फ मार्जिनल कॉस्ट बेस्ड लेंडिंग रेट पर लोन दे रही है|

इस साल जुलाई में SBI ने अपने नए होम लोन के लिए रेपो लिंक्ड लेंडिंग रेट (RLLR) का ऐलान किया था. जिसका फायदा सिर्फ नए ग्राहकों के लिए था| इसका मतलब है अगर सरकार रेपो रेट घटाती है तो होम लोन ग्राहकों को भी कम ब्याज चुकाना होगा|

हालांकि SBI के चेयरमैन रजनीश कुमार ने कहा कि पुराने ग्राहकों को इसका फायदा कैसे दिया जा सके इसकी तलाश जारी है| SBI ने 2014 में जब मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट (MCLR) आधारित ब्याज दर शुरू की तो दूसरे बैंकों ने भी बेस रेट का सिस्टम छोड़कर MCLR को अपना लिया| SBI का रेपो-लिंक्ड लेंडिंग रेट (RLLR) RBI के रेपो रेट से 2.25 फीसदी ऊपर रहता है| अभी रेपो रेट 5.40 फीसदी है तो SBI का RLLR 7.65 प्रतिशत है| इसके अलावा RLLR से ऊपर 0.40 फीसदी और 0.55 फीसदी स्प्रेड होता है. इस हिसाब से नए होम लोन ग्राहक सालाना 8.05 फीसदी या 8.20 फीसदी पर होम लोन ले सकते हैं| बैंक ने एक हफ्ते पहले रेपो रेट लिंक्ड लोन स्कीम को अपनी वेबसाइट से भी हटा लिया था|