Arthgyani
होम > न्यूज > लगातार तीसरे दिन फिसला शेयर बाज़ार, निफ्टी50-सेंसेक्स दोनों हुए बेहाल

लगातार तीसरे दिन फिसला शेयर बाज़ार, निफ्टी50-सेंसेक्स दोनों हुए बेहाल

बजट पूर्व आशंकाओं और इंडिया रेटिंग्स के द्वारा भारत के जीडीपी अनुमान घटाने के कारण शेयर बाज़ार में लगातार बिकवाली का रुख बना हुआ है|  

सप्ताह की शुरुआत रिकॉर्ड उंचाई के साथ करने के बाद भारतीय शेयर बाज़ार ने जो एक बार फिसलन का रुख बनाया है, वह थमने का नाम ही नहीं ले रहा है| आज के दिन भी भारतीय शेयर बाज़ार के दोनों प्रमुख सूचकांक भारी नुकसान के साथ बंद हुए| आज BSE का सेंसेक्स 208 अंक गिरकर 41,115.38 अंकों पर बंद हुआ, वहीं NSE का निफ्टी ने 62.95 अंकों के नुकसान के साथ 12,106.90 पर अपनी आज की क्लोजिंग की|

भारतीय शेयर बाज़ार का रुख वैश्विक बाज़ार के विपरीत 

विगत तीन दिनों की शेयर बाज़ार की गिरावट विशेषज्ञों के विश्लेषण के विपरीत है| शेयर कारोबारि विशेषज्ञ का कहना है कि अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वॉर को खत्म करने से जुड़ी डील पर बनी सहमति और दुनियाभर के शेयर बाजारों में आई तेजी की वजह से निवेशकों का रुझान सोने से हटकर शेयर बाजार की ओर बढ़ गया है| इसी वजह से सोने की कीमतों में गिरावट आई है| सोने की कीमतों के संदर्भ में विशेषज्ञों की बात तो सही साबित हुई, मगर भारतीय शेयर बाज़ार के संदर्भ में तो ऐसा देखने को मिल रहा है, जैसे इस बात का कोई प्रभाव ही नहीं पर रहा हो|

पैसा लगाने से घबरा रहे हैं निवेशक 

भारतीय शेयर बाज़ार के गिरावट के पीछे मुख्य कारण आंतरिक हैं| सबसे पहला कारण तो यह है कि  विभिन्न रेटिंग एजेंसियां लगातार भारत के विकास दर अनुमान को घटाते जा रहें हैं| इससे निवेशक अपना पैसा निवेश करने से घबरा रहे हैं| इसी संदर्भ में आज की ताज़ा खबर यह है कि इंडिया रेटिंग्स ऐंड रिसर्च (फिच समूह) ने इस वित्त वर्ष यानी 2020-21 में भारत के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में ग्रोथ सिर्फ 5.5% होने का अनुमान लगाया है|

आज के गिरावट में इस GDP अनुमान का तो हाथ रहा ही है, इसके साथ किया गया कमेंट के कारण नुकसान और बढ़ गया| अपने कमेंट में एजेंसी ने कहा है कि भारतीय अर्थव्यवस्था की सुस्ती के कारक निकट भविष्य में दूर होते नहीं दिख रहे और सरकार को बजट में इस प्रकार निवेश करना चाहिये जिससे रोजगार सृजन हो तथा लोगों की व्यय योग्य आय बढ़े|

आज इंडिया रेटिंग्स ऐंड रिसर्च बनी गेम चेंजर 

इस रेटिंग एजेंसी का महत्व आप इससे समझ सकते हैं कि सेंसेक्स शुरुआत में 208 अंकों की तेजी के साथ 41,532.29 पर कारोबार कर रहा था, वहीं निफ्टी 55 अंकों की तेजी के साथ के साथ 12,225 अंकों पर कारोबार कर रहा था, इंडिया रेटिंग्स द्वारा भारत की GDP ग्रोथ का अनुमान घटाने की खबर के बाद सेंसेक्स सीधा 100 अंक गिर गया| इसके बाद गिरावट जारी रही, जो शाम तक जारी रही और अंततः दोनों सूचकांक नुकसान के साथ बंद हुए|

भारतीय शेयर बाज़ार के तात्कालिक गिरावट का एक दूसरा कारण 1 फ़रवरी को पेश होने वाला बजट भी है| निवेशक बजट के रुख के बारे में अनुमान नहीं लगा पा रहें हैं, इसलिए वे अपना पैसा सुरक्षित करके रखना चाह रहे हैं और शायद बजट के घोषणाओं के अनुरूप ही बजट के बाद निवेश करने या न करने के बारे में सोंच रहे हों|

निफ्टी के 50 में से 34 शेयर गिरावट के साथ हुए बंद

सेंसेक्स के 30 में से 21 और निफ्टी के 50 में से 34 शेयर गिरावट के साथ बंद हुए| NSE पर 11 में से 8 सेक्टर इंडेक्स नुकसान में रहे| मेटल इंडेक्स सबसे ज्यादा 1.54% लुढ़क गया| दूसरी ओर मीडिया इंडेक्स सबसे ज्यादा 1.73% फायदे में रहा|

निफ्टी के आज के टॉप-5 लूजर रहें- ONGC 5.25%, कोल इंडिया 5.24%, NTPC 3.97%, टाटा मोटर्स 3.03% और UPL 2.99%