Arthgyani
होम > न्यूज > इलेक्ट्रिक वाहनों के विनिर्माण को बढ़ावा देने की मांग: नितिन गडकरी

इलेक्ट्रिक वाहनों के विनिर्माण को बढ़ावा देने की मांग: नितिन गडकरी

विकास के लिये वित्त मंत्रालय से समर्थन का आग्रह किया

केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने वाहन प्रदर्शनी के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए  कहा कि वाहनों को कबाड़ बनाने की नीति अंतिम चरण में हैं। गडकरी ने कहा, ‘‘कुछ दिन पहले, मैं दो इलेक्ट्रिक वाहनों को पेश करने के कार्यक्रम में था। गाड़ियां इतनी अच्छी थी कि मेरा मानना है कि आने वाले दिनों में हम इलेक्ट्रिक वाहनों के विनिर्माण और निर्यात में अव्वल होंगे।

नितिन गडकरी ने बृहस्पतिवार को कहा कि  वित्त मंत्रालय से नई प्रौद्योगिकी के लिये अनुसंधान एवं विकास को लेकर वाहन उद्योग का समर्थन करने का आग्रह किया है। उन्होंने यह भी भरोसा जताया कि भारत इलेक्ट्रिक वाहनों के निर्यात और विनिर्माण में भारत वैश्विक केंद्र बन सकता है। चाहे वह दो-पहिया वाहन हो या फिर कार अथवा बस।

 प्रदूषण से निपटने का साधन: इलेक्ट्रिक वाहन

सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा यह काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा कौशल ज्ञान है और ज्ञान को संपत्ति में तब्दील करना देश का भविष्य है।’’ उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रिक वाहन जैसे वैकल्पिक प्रौद्योगिकी को बढ़ावा देना देश के आयात बिल में कमी और प्रदूषण से निपटने के लिहाज से महत्वपूर्ण है।

मंत्री ने यह भी कहा कि उन्होंने वित्त मंत्रालय से नई प्रौद्योगिकी के अनुसंधान एवं विकास के लिये वाहन उद्योग को समर्थन देने का आग्रह किया है। गडकरी के अनुसार पेट्रोल और डीजल में 15 प्रतिशत मेथनॉल मिश्रण के नीति आयोग का प्रस्ताव भी अंतिम मंजूरी के लिये विचाराधीन है।