Arthgyani
होम > न्यूज > वेदांता

वेदांता के शेयर धारको को मिल सकता है बड़ा फ़ायदा

वेदांता अपने शेयर धारकों को 10 फीसदी का मोटा डिविडेंड दे सकती है।

वेदांता के शेयर धारकों के लिए बड़ी ख़ुशख़बरी है। वेदांता अपने शेयर धारकों को छह महीने से कम समय में 10 फीसदी का मोटा डिविडेंड दे सकती है। इसी सम्भावनाओ के तहत कंपनी के शेयर्स ऊंचाई पर पहुँच रहे हैं। वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान वेदांता ने अभी तक डिविडेंड की घोषणा नहीं की है।
कंपनी बीते तीन सालों से अपने शेयर धारकों को लगातार मोटा डिविडेंड दे रही है। इसका डिविडेंड भुगतान अनुपात 100 फीसदी से अधिक रहा है। ब्लूमबर्ग के अनुसार, वेदांता इस साल 13.84 रुपये प्रति शेयर की दर से डेविडेंड का ऐलान कर सकती है। वित्त वर्ष 2016-17 में कंपनी ने मार्च के दौरान 19.45 रुपये डिविडेंड दिया था वहीँ वित्त वर्ष 2017-18 में अप्रैल के दौरान 21.2 रुपये डिविडेंड दिया था। वित्त वर्ष 2018-19 में कंपनी ने 18.85 रुपये डिविडेंड का ऐलान किया था।

वेदांता एक नज़र में

  • कंपनी बीते तीन सालों से लगातार मोटा डिविडेंड दे रही है।
  • इस साल अपने शेयर धारकों को 10 फीसदी का मोटा डिविडेंड दे सकती है।
  • वित्त वर्ष 2020-21 में 15.1 रुपये के डिविडेंड का अनुमान है।
  • इसके शेयर प्राइस टू बुक वैल्यू के आधार पर 4 गुना के भाव पर कारोबार कर रहे हैं।
  • लगातार कमोडिटी साइकिल में सुधार हो रहा है।
  • कंपनी की वैल्यूएशन अच्छी है और बैलेंस शीट मजबूत है।
  • वेदांता भारत की सबसे बड़ी खनन और खनिज कंपनी है।

इस साल वेदांता द्वारा दिए जाने वाले डिविडेंड की उम्मीद पहले से अधिक है। माना जा रहा है निवेशकों को आने वाले दो सालों में 10 फीसदी से अधिक का डिविडेंड मिल सकता है। वित्त वर्ष 2020-21 में 15.1 रुपये के डिविडेंड का अनुमान है।वेदांता भारत की सबसे बड़ी खनन और खनिज कंपनी है, जो ऑयल एंड गैस, जिंक, एल्युमिनियम, कच्चे लोहे, लेड चांदी और पावर के क्षेत्र में व्यापार करती है। सितंबर तिमाही में कंपनी ने 21,739 करोड़ रुपये की बिक्री की।

वेदांता की ग्रोथ में स्थिरता रही है और इसका सकल कर्ज 11,000 करोड़ रुपये कम हुआ है, जबकि नेट कर्ज में 7,000 करोड़ रुपये की कमी आई है। वेदांता के शेयर प्राइस टू बुक वैल्यू के आधार पर 4 गुना के भाव पर कारोबार कर रहे हैं, जो तीन साल  का निचला स्तर है। हालांकि, कंपनी प्रबंधन का मानना है कि दूसरी छमाही बेहतर रहेगी।

इकोनॉमिक्स टाइम्स के अनुसार कंपनी के सीईओ श्रीनिवासन वेंकटकृष्णन का मानना है कि कमोडिटी साइकिल में सुधार हो रहा है और जल्द ही कंपनी को इसका फायदा मिलेगा। अच्छी वैल्यूएशन, मजबूत बैलेंस शीट और 10 फीसदी के डिविडेंड यील्ड के साथ यह शेयर, निवेशकों के लिए अच्छा दांव साबित हो सकता है।