Arthgyani
होम > टैक्स (कर) > वैट क्या है? Vat Meaning in Hindi

वैट क्या है? Vat Meaning in Hindi

वैट (VAT) / Value Added Tax एक प्रकार का अप्रत्यक्ष कर है जो वस्तु और सेवा पर लगाया जाता है।

वैट / VAT (Value Added Tax ) एक प्रकार का अप्रत्यक्ष कर है जो वस्तु और सेवा पर लगाया जाता है। क्योंकि वस्तु और सेवा उत्पादन के हर पड़ाव में मूल्य की वृद्धि होती जाती है इसलिए वस्तु के उत्पाद से लेकर बिक्री तक, हर पड़ाव में वैट / VAT (Value Added Tax ) लगाया जाता है। वैट (VAT) किसी भी देश के GDP का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। हलाकि, वैट (VAT) निर्माताओं द्वारा सरकार को भरा जाता है, परन्तु वास्तव में यह टैक्स , ग्राहक, वस्तु को खरीदने के समय भरते है , निर्माता सिर्फ कर सरकार तक पहुँचाने का काम करता है।

कोई भी व्यक्ति जो वस्तु और सेवा की आपूर्ति कर सालाना ५ लाख का टर्नओवर कमाता हो, उसे वैट / VAT (Value Added Tax ) भरने के लिए पंजीकरण करना अनिवार्य हो जाता है।

भारत में वैट (VAT) की विशेषता:

  1. वैट / VAT (Value Added Tax ) उत्पादन के हर पड़ाव पर लगाया जाता है जिसकी वजह से कर की प्रक्रिया आसान और पारदर्शी हो जाती है।
  2. वैट / VAT (Value Added Tax ) कर की चोरी और इसके प्रोत्साहन की संभावना को कम कर देता है।
  3. वस्तु और सेवा की बिक्री के सबसे छोटे स्तर पर पारदर्शिता की संभावना को बढ़ावा देता है।
  4. वैट / VAT (Value Added Tax ) के अंतर्गत एकसमान वस्तुओं में बराबर कर लगाया जाता है।

व्यापारी द्वारा वस्तु और सेवा की बिक्री से लिए गए कर और वस्तु और सेवा के उत्पादन के लिए खरीदे गए कच्चे माल पर दिए गए कर के बीच का अंतर निकला जाए तो जितनी राशि निकलेगी वह वैट / VAT (Value Added Tax ) कहलाएगी।

उद्धारण के लिए , मान लीजिये राहुल ने एक नया रेस्टोरेंट खोला है जिसके लिए उसने ५०,००० का कच्चा माल खरीदा, उन कच्चे माल पर राहुल को १०% कर भी भरना पड़ेगा यानि की ५०,००० का १०% = ५,०००

अब कच्चे माल से खाना बनाकर बेचने पर राहुल १,००,०० कमाता है, इस कमाई पर भी राहुल को १०% का कर भरना अनिवार्य है, यानी की १,००,००० का १०% = १०,०००

तो इस तरह कुल वैट (VAT) की राशि १०,००० – ५,००० = ५,००० हो जाती है।

भारत में कई व्यापारियों और कंपनियों में कर चोरी का मामला सामने आया है, ऐसे में वैट / VAT (Value Added Tax ) एक ऐसा माध्यम है जो कर लेने और देने की प्रक्रिया में पारदर्शिता बनाए रखता है और कर की चोरी की संभावना को कम कर देता है।